विदेश

अमेरिका और भारत के बीच समझौता: अक्षय ऊर्जा में दोनों देश करेंगे काम

संयुक्त राज्य अमेरिका 2030 तक 450 गीगावॉट अक्षय ऊर्जा स्थापित करने की दिशा में काम करने के लिए भारत के साथ सहयोग करेगा। जलवायु के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी ने सोमवार को कहा कि, “हम वित्त, प्रौद्योगिकी और इसे हासिल करने के लिए आवश्यक अन्य तत्वों को लाने के लिए भारत के साथ साझेदारी करने के लिए तत्पर हैं।”

वर्तमान में भारत की स्थापित अक्षय ऊर्जा से बिजली उत्पादन क्षमता 2021-22 तक 476 गीगावाट्स होने का अनुमान है और 2030 तक कम से कम 817 गीगावाट्स तक बढ़ने की उम्मीद है।

अमेरिकी विदेश विभाग के एक विज्ञप्ति के अनुसार जॉन केरी 12-14 सितंबर तक भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं और “वैश्विक जलवायु महत्वाकांक्षा को बढ़ाने और भारत के स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को गति देने” के लिए मंत्रियों और उद्योगपतियों से मुलाकात कर रहे हैं।

जलवायु सम्बंधिन मामलों के दूत केरी क्लाइमेट एक्शन एंड फाइनेंस मोबिलाइजेशन डायलॉग (सीएएफएमडी) के शुभारंभ पर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव के साथ बैठक के बाद एक सार्वजनिक समारोह में बोल रहे थे। यह यूएस-इंडिया एजेंडा 2030 पार्टनरशिप के मुख्य ट्रैक में से एक था, जिसकी घोषणा अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अप्रैल 2021 में लीडर्स समिट ऑन क्लाइमेट में की थी। जॉन केरी ने कहा कि सोमवार की बातचीत एक “शक्तिशाली एवेन्यू” के रूप में काम करेगी।

अमेरिका-भारत सहयोग, और तीन स्तंभों पर आधारित होगा। एक “जलवायु कार्रवाई स्तंभ” होगा जिसमें अगले दशक में उत्सर्जन के तरीकों को देखते हुए संयुक्त प्रस्तावों को कम किया जा सकता है। दूसरा स्तंभ परिवहन, भवन और उद्योग में 450 गीगावाट्स प्राप्त करने के लिए एक रोडमैप तैयार करेगा। अंतिम स्तंभ या ”वित्त स्तंभ” में 450 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा को तैनात करने और बड़े पैमाने पर स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को प्रदर्शित करने के लिए वित्त को आकर्षित करने में सहयोग करना शामिल होगा। जॉन केरी ने कहा कि अमेरिका में छह बैंक स्वच्छ ऊर्जा की दिशा में अगले दशक में 4.5 ट्रिलियन डॉलर का “निवेश” करने के लिए पहले ही प्रतिबद्ध हैं।

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Share
लेखक
आदित्य सिंह

Recent Posts

क्या होंगे आने वाले समय में भारत के लिए औकस (AUKUS) के मायने?

संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक नए सुरक्षा समझौते औकस (या…

September 25, 2021

वाइट हाउस में हुई प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के बीच में द्विपक्षीय वार्ता

वाइट हाउस के ओवल कार्यालय में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन…

September 25, 2021

पर्यावरण मंत्रालय ने सर्दियों में वायु प्रदर्शन की रोकथाम के लिए दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के साथ की बैठक

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने गुरुवार को दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ एक…

September 24, 2021

केंद्र सरकार का सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा: जातिगत जनगणना की प्रक्रिया प्रशासनिक रूप से कठिन और बोझिल

केंद्र सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि पिछड़े वर्ग की जाति जनगणना…

September 24, 2021

प्रधान मंत्री मोदी ने अमेरिकी दौरे के पहले दिन कमला हैरिस और अन्य नेताओं से की मुलाकात

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कल दो साल में अपनी पहली अमेरिका यात्रा की शुरुआत…

September 24, 2021

डब्ल्यूएचओ ने 2005 के बाद किये नए वायु गुणवत्ता दिशानिर्देश; कई निर्देश हुए सख्त

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 2005 के बाद से अपने पहले ऐसे अपडेट में पिछले…

September 23, 2021