शनिवार, अक्टूबर 19, 2019

अमेरिका की तालिबान से बातचीत की ईरान ने की आलोचना

Must Read

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान की जंग को खत्म करने के लिए तालिबान से अमेरिका की वार्ता की ईरान ने निंदा की है। उन्होंने कहा कि “वांशिगटन चरमपंथियों का कद बढ़ा रहा है।” विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने बताया कि “ईरान भी तालिबान से बातचीत कर रहा है लेकिन चरमपंथियों के साथ समझौते के लिए दबाव बनाना बिलकुल गलत है।”

उन्होंने कहा कि “यह सभी को अलग  करने की कोशिश है और तालिबान से सिर्फ बातचीत करना, सरकार को अलग-थलग करना है, क्षेत्र को अलग और सभी को अलग करना है और इससे कुछ हासिल नहीं होगा। आप  तालिबान की तरफ से की जा रही बयानबाजी को देख सकते हैं।”

न्यूयॉर्क की एशिया सोसाइटी में जावेद जरीफ ने कहा कि “मैं पहले कहना चाहता हूँ कि अफगानिस्तान में किसी भी तरह की शान्ति के लिए तालिबान को अलग थलग नहीं किया जा सकता है। आप अफगानिस्तान के भविष्य के बाबत तालिबान सेबातचीत नहीं कर सकते हैं। तालिबान अफगान समाज के बस एक भाग का प्रतिनिधित्व करते हैं, न की सभी का करते हैं।”

अमेरिका के राष्ट्रपति अफगानिस्तान की जंग का निपटान करने के लिए आतुर है और वांशिगटन इस जंग में 11 सितम्बर 2001 को हुए हमले के बाद कूदा था। क़तर में अमेरिका के विशेष सचिव जलमय खलीलज़ाद में तालिबान के साथ कई स्तर की बातचीत की थी

ख़बरों के मुताबिक, अमेरिका अफगान से सभी सैनिको की वापसी के लिए राज़ी हो गया था और इसके बदले तालिबान ने अपनी सरजमीं पर विदेशी चरमपंथियों को न आने देने का वादा किया था। तालिबान निरंतर अफगान सरकार से बातचीत करने के लिए इंकार करता रहा है।

अमेरिका के साथ रिश्तों में खटास के बावजूद शुरुआत में तालिबान पर अमेरिकी आक्रमण पर चुप था। अफनिस्तान में साल 1996 से 2001 तक तालिबान की मुल्क में सरकार थी। शिया बहुल ईरान ने साल 1998 में तालिबान के साथ जंग शुरू की थी जब अफगान के मज़ार ए शरीफ अफगान शहर में उनके दूतावास पर हमला किया गया था। हालाँकि अब ईरान तालिबान के साथ सम्बन्ध बनाते दिख रहा है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति के बाद हुए ब्रेक्जिट समझौते...

आजम को परेशान किया जा रहा, ताकि हमारी सरकार न बने : अखिलेश

रामपुर, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यहां शनिवार को कहा कि आजम खां को इसलिए परेशान किया...

उप्र : स्नातक में दाखिला निरस्त होने पर छात्राएं अनशन पर बैठीं

बांदा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में बांदा जिला मुख्यालय के पंडित जवाहरलाल नेहरू डिग्री कॉलेज में स्नातक कक्षा का दखिला निरस्त होने से...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -