दा इंडियन वायर » समाचार » अमेरिका ने विदेशों में कोरोना वैक्सीन की 110 मिलियन खुराक भेजीं
विदेश समाचार

अमेरिका ने विदेशों में कोरोना वैक्सीन की 110 मिलियन खुराक भेजीं

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने मंगलवार को घोषणा की अमेरिका ने कोरोना वायरस टीकों की 110 मिलियन से अधिक खुराक मध्यम और निम्न-आय वाले देशों को भेज दी है। यह विश्व स्तर पर ज्यादातर एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की कम से कम 80 मिलियन खुराक दान करने की प्रतिबद्धता से अधिक है। हालाँकि भारत उन देशों की आधिकारिक सूची में शामिल नहीं हुआ जिन्होंने यू.एस. टीके प्राप्त किए। यह भारत सरकार और वैक्सीन निर्माताओं के बीच अनसुलझे दायित्व मुद्दों का परिणाम है।

वैक्सीन वार्ता में शामिल एक भारतीय अधिकारी ने बताया कि सरकार तीन अमेरिकी वैक्सीन निर्माताओं (फाइजर, मॉडर्न और जॉनसन एंड जॉनसन) के लिए दान के साथ-साथ वाणिज्यिक आदेशों के लिए क्षतिपूर्ति के मुद्दे को हल करने के लिए उत्सुक है और तब तक अमेरिका से आने वाले सभी वैक्सीन शिपमेंट को फिलहाल रोका गया है।

वहीं सरकार के वैक्सीन पैनल के प्रमुख एन.के. अरोड़ा ने सुझाव दिया कि यदि बड़ी संख्या में खुराक (जैसे कि 100 और 200 मिलियन खुराक के बीच) की पेशकश की जाती है तो भारत अमेरिकी टीकों के लिए संप्रभु क्षतिपूर्ति पर अपनी स्थिति पर पुनर्विचार कर सकता है। लेकिन भारत अमेरिका से आयातित टीकों में फैक्टरिंग के बिना सभी योग्य वयस्कों को टीका लगाने की अपनी वैक्सीन योजना के साथ आगे बढ़ रहा है।

अभी तक भारत ने केवल फार्मा कंपनी सिप्ला को मॉर्डना एमआरएनए वैक्सीन आयात करने की मंजूरी मंगलवार को ही दी है। जुलाई की शुरुआत में मॉडर्ना टीकों की 7.5 मिलियन खुराक की एक शिपमेंट भारत के लिए बाध्य थी। भारतीय अधिकारी के अनुसार, यह शिपमेंट अंतरराष्ट्रीय वैक्सीन वितरण सुविधा कोवैक्स से दान का एक हिस्सा था। लेकिन अंतिम समय में इसे आयात नहीं किया गया क्योंकि न तो सरकार और न ही सिप्ला देयता माफी पर हस्ताक्षर करने के लिए तैयार थी।

अमेरिका द्वारा अब तक दान की गई 11,17,01,000 खुराकों में से अधिकांश को कोवैक्स के माध्यम से वितरित किया गया है। व्हाइट हाउस द्वारा मंगलवार को जारी ‘फैक्टशीट’ के मुताबिक इंडोनेशिया को सबसे बड़ा हिस्सा (8 मिलियन डोज) मिला है। कई दक्षिण एशियाई देश सूची में थे: अफगानिस्तान (3.3 मिलियन खुराक), भूटान (500,000 खुराक), नेपाल (1.5 मिलियन खुराक), श्रीलंका (1.5 मिलियन खुराक), पाकिस्तान और बांग्लादेश (5.5 मिलियन खुराक प्रत्येक)।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!