दा इंडियन वायर » विदेश » अमेरिका और उत्तर कोरिया की दूसरी मुलाकात जल्द होगी संभव: दक्षिण कोरिया
विदेश

अमेरिका और उत्तर कोरिया की दूसरी मुलाकात जल्द होगी संभव: दक्षिण कोरिया

दक्षिण कोरिया की राजधानी सीओल की आधिकारिक सूचना के मुताबिक उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की दूसरी मुलाकात जल्द ही संभव हो सकती है। सूत्रों के मुताबिक किम जोंग उन ने मुलाकात के लिए हामी भर दी है।

अमेरिका के राज्य सचिव माइक पोम्पिओ रविवार को उत्तर कोरिया के दौरे पर गए थे। उन्होंने  कहा कि किम जोंग उन ने उत्तर कोरिया और अमेरिका के मध्य दूसरे शिखर सम्मलेन के लिए रज़ामंदी दे दी है। उन्होंने कहा जल्द ही स्थान और तारीख का ऐलान कर दिया जायेगा।

माइक पोम्पिओ ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन से कहा कि दोनों राष्ट्रों ने दूसरी मुलाकात के लिए सहमति दे दी है। अब सही स्थान और तारीख तय करना बाकी है।

इससे पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की मुलाकात 12 जून को सिंगापुर की राजधानी सिंगापुर सिटी में हुई थी। इस शिखर सम्मलेन के दौरान किम जोंग ने पेनिनसुला में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण का आश्वासन दिया था। गौरतलब है इस बैठक से कुछ दिन पहले उत्तर कोरियाई नेता ट्रैन से चीन पहुंचे थे।

अमेरिका ने उत्तर कोरिया पर परमाणु मिसाइल और हथियार बनाने के कारण प्रतिबन्ध लगाए थे। जिसके बाद दोनों देशों के प्रमुखों ने एक-दूसरे को अपशब्द भी कहे थे। डोनाल्ड ट्रम्प ने किम जोंग उन को मिसाइल मैन कहा था वहीं जवाब में उत्तर कोरिया के नेता ने डोनाल्ड ट्रम्प को सनकी कहा था। अलबत्ता मुलाकात के बाद दोनों राष्ट्रों के प्रमुखों ने इसे सकारात्मक बातचीत बताया और डोनाल्ड ट्रम्प  ने किम जोंग को टैलेंटेड मैन कहा था।

डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति की गद्दी सँभालने के बाद से अमेरिका अन्य राष्ट्रों के साथ सख्ती से पेश आ रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत पर हार्ले डैविडसन पर अधिक शुल्क लगाने का आरोप लगाया साथ ही कहा वह अमेरिकी उत्पादों पर जरुरत से ज्यादा शुल्क वसूलते हैं बदले में अमेरिका को शून्य देते हैं।

अमेरिका ने चीनी उत्पादों पर भी शुल्क में वृद्धि की। आयातित सामान में कर की वृद्धि से दोनों देशों के मध्य व्यापार युद्ध छिड़ गया। अमेरिका अन्य देशों पर उनके द्वारा मुहैया सुरक्षा के बदले कीमत अदा करने के लिए भी दबाव बना रहा है। जिसमे सऊदी अरब और जर्मनी जैसे देश शामिल है।

About the author

कविता

कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!