अमेरिका के साथ वार्ता संभव नहीं: ईरानी सुप्रीम नेता अयातुल्लाह खामेनेई

Must Read

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह अली खामेनेई ने मंगलवार को अमेरिका के साथ वार्ता की अफवाहों को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि “हमारा मुल्क वांशिगटन के साथ किसी भी स्तर की वार्ता नहीं करेगा जब तक वह अपने व्यवहार में बदलाव नहीं लाता और साल 2015 की परमाणु संधि पर वापस नहीं लौट आता।”

अलजजीरा को खामेनेई ने बताया कि “ईरान पर अधिकतम दबाव की नीति कामयाब नहीं हो सकी और इस्लामिक गणराज्य के इस विचार पर एकजुट है कि किसी भी स्तर पर अमेरिका के साथ वार्ता नहीं की जाएगी।”

सर्वोच्च नेता ने कहा कि “अगर अमेरिका अपने रवैये में तब्दीली करता है और साल 2015 की परमाणु संधि पर वापस आता है तो वह समझौते में ईरान व अन्य पक्षों के साथ बहुपक्षीय वार्ता में शामिल हो सकता है।”

ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्बास मौसावी ने कहा कि “यूएन जनरल महासभा के इतर डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात की ईरानी राष्ट्रपति की कोई योजना नहीं है।” रविवार को सऊदी अरब की दो तेल कंपनियों में ड्रोन से हमला किया गया था जिसका कसूरवार अमेरिका और सऊदी अरब ने ईरान को ठहराया था। जबकि इसकी जिम्मेदारी यमन के हौथी विद्रोहियों ने ली थी। इस वारदात से कुल उत्पादन में रोजाना 57 लाख बैरल को कम कर दिया गया है।

इसके जवाब में ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा कि “ड्रोन हमले के मामले पर मैं सुरक्षा कारणों को रेखांकित करना चाहता हूँ। हर दिन यमन में बमबारी की जाती है और मासूम नागरिको की हत्या की जाती है। यमन में नागरिको के खिलाफ निरंतर हथियारों के इस्तेमाल से यमन के नागरिक जवाब देने के लिए मजबूर हो गए हैं। यमन के नागरिको को खुद को इस हमले से बचाना है।”

 

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

भारत में कोरोनावायरस के मामले 1.5 लाख के करीब, पढ़ें पूरी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज कहा है कि 6,535 नए संक्रमणों के बाद भारत में कोरोनोवायरस बीमारी (COVID-19) के...

कबीर सिंह के लिए पुरुष्कार ना मिलने पर शाहिद कपूर ने दिया यह जवाब

कल मंगलवार शाम को शाहिद कपूर (Shahid Kapoor) ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों से बात करने की योजना बनायी और लोगों से सवाल पूछने...

सिक्किम के बाद लद्दाख में भारत और चीन की सेना में टकराव

सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प की खबरों के बाद उत्तरी सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव की...

औरंगाबाद में रेल के नीचे आने से 16 मजदूरों की मौत, 45 किमी की दूरी तय करने के बाद हुई घटना

महाराष्ट्र (Maharashtra) के औरंगाबाद (Aurangabad) शहर में शुक्रवार सुबह कम से कम 16 प्रवासी श्रमिक ट्रेन के नीचे कुचले गए, जब वे मध्य प्रदेश...

भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े 50,000 के पार, महाराष्ट्र में सबसे भयानक स्थिति

भारत (India) में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या में पिछले दो दिनों में 14 फीसदी की वृद्धि देखि गयी है। यह आंकड़ा...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -