दा इंडियन वायर » विदेश » अफ़ग़ानिस्तान में सिख गुरूद्वारे Karte Parwan को बनाया गया निशाना, बम विस्फोट होने के बाद फायरिंग भी हुई 
विदेश

अफ़ग़ानिस्तान में सिख गुरूद्वारे Karte Parwan को बनाया गया निशाना, बम विस्फोट होने के बाद फायरिंग भी हुई 

अफगानिस्तान में सिख गुरूद्वारे को बनाया गया निशाना, बम विस्फोट होने के बाद फायरिंग की भी हुई

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में  एक सिख गुरुद्वारे को शनिवार को कई बमों और गोलियों से निशाना बनाया गया। विस्फोटों के बाद, टोलो न्यूज ने काबुल के Karte Parwan पड़ोस में विस्फोटों का एक वीडियो ट्विटर पर डाला। विस्फोट के बाद फायरिंग की आवाज़ भी सुनाई दे जा सकती है।

Karte Parwan गुरुद्वारा घनी आबादी वाले इलाके में से एक है। विस्फोट में मारे गए या घायल हुए लोगों की संख्या अभी मालूम नहीं है।  

अफ़ग़ानिस्तान की मुस्लिम बहुल आबादी में सिख एक छोटे से धार्मिक अल्पसंख्यक हैं, जिनकी संख्या लगभग 300 परिवार तक सीमित हैं। समुदाय के सदस्यों और मीडिया सूत्रों के अनुसार, अधिग्रहण के बाद कई लोग देश छोड़कर भाग गए।

एक अधिकारी गोर्नम सिंह ने रॉयटर्स को बताया, “गुरूद्वारे के अंदर लगभग 30 लोग थे। हमें नहीं पता कि उनमें से कितने जीवित हैं या कितने मर चुके हैं। तालिबान हमें अंदर नहीं जाने दे रहे हैं, हमें नहीं पता कि क्या करना है।” 

विदेश मंत्रालय की प्रतिक्रिया : 

नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, “हम उस शहर में एक पवित्र गुरुद्वारे पर हमले के बारे में काबुल से प्राप्त रिपोर्टों से बहुत चिंतित हैं। हम स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और आगे की घटनाओं के बारे में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा कर रहे हैं।” ट्वीट किया।

अफगानिस्तान में सिख गुरूद्वारे को बनाया गया निशाना, बम विस्फोट होने के बाद फायरिंग की भी हुई। 

पंजाब के CM भगवत मान ने ट्वीट कर कहा : काबुल के गुरुद्वारा Karte Parwan में हुए हमले की कड़ी निंदा करते हैं। भक्तों पर गोलियां चलने की खबरें सुनी हैं, मैं सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना कर रहा हूं। मैं पीएम @नरेंद्र मोदी जी और @MEAIndia से आग्रह करता हूं काबुल में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा सुनिश्चित करे।  

 

भाजपा के मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि उन्होंने गुरनाम सिंह, गुरूद्वारे के अध्यक्ष, से बात की है, जिन्होंने उन्हें बताया कि घटना स्थानीय समयानुसार सुबह 6 बजे हुई जब एक ग्रंथी गुरु ग्रंथ साहिब के सुबह ‘प्रकाश’ के लिए गुरुद्वारे के अंदर जा रहे थे।

कई रिपोर्ट का ये भी कहना है कि “गुरुद्वारे की दूसरी मंजिल पर लोगो को बंधक भी बनाया गया है”।

 

तालिबान के एक प्रवक्ता ने विस्फोट की पुष्टि की:

द एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार, इस घटना की पुष्टि आंतरिक मंत्रालय के तालिबान द्वारा नियुक्त प्रवक्ता अब्दुल नफी ताकोर ने की है, हालांकि यह तुरंत स्पष्ट नहीं था कि विस्फोट के पीछे कौन था। हमले के पीछे ISIS खुरासान का हाथ होने का शक है।

इस्लामिक स्टेट के खुरासान प्रांत के सहयोगी पहले ही देश भर में मस्जिदों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ हमलों की जिम्मेदारी ले चुके हैं।

“हमने स्थानीय समयानुसार सुबह करीब 6 बजे Karte Parwan पड़ोस में एक बड़ा विस्फोट सुना। विस्फोट के बाद एक और विस्फोट हुआ जो पहले विस्फोट के लगभग आधे घंटे बाद हुआ। अब पूरी जगह को सील कर दिया गया है।” सरकारी समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से कहा है।

उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों ने एहतियात के तौर पर इलाके की घेराबंदी कर दी । एक प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार विस्फोट होने के बाद आसमान में  धुआँ ही धुआँ हो गया और दहशत फैल गई। उन्होंने कहा, “संभावित हताहतों की आशंका है। सुरक्षा बलों द्वारा कई चेतावनी शॉट भी दागे गए।”

यह पहली बार नहीं है जब किसी सिख समुदाय पर हमला किया गया हो:

मार्च 2020 में, एक अत्यधिक सशस्त्र आत्मघाती हमलावर ने काबुल के केंद्र में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारे पर हमला किया, जिसमें कम से कम 25 उपासकों की मौत हो गई और अल्पसंख्यक सिख आबादी के खिलाफ देश के सबसे खूनी हमलों में आठ अन्य घायल हो गए।

तब शोर बाजार में हुई इस घटना की जिम्मेदारी आतंकी समूह इस्लामिक स्टेट ने ली थी।

About the author

Surubhi Sharma

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]