शुक्रवार, फ़रवरी 28, 2020

अनुच्छेद 370 पर दोषपूर्ण याचिका के लिए वकील को फटकार

Must Read

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

नई दिल्ली, 16 अगस्त (आईएएनएस)| सुप्रीम कोर्ट ने वकील एम. एल. शर्मा द्वारा जम्मू एवं कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के केंद्र के फैसले को चुनौती देने वाली त्रुटिपूर्ण याचिका दायर करने के लिए शुक्रवार को उन्हें कड़ी फटकार लगाई।

भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, “आपकी यह याचिका सही नहीं है। मैंने इसे आधा घंटे तक पढ़ने की कोशिश की, लेकिन इसका कोई मतलब नहीं पता चल सका।”

सीजेआई ने कश्मीरी अधिवक्ता शब्बीर शकील को भी इसी तरह दोषपूर्ण अर्जी दाखिल करने के लिए फटकार लगाई।

सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर पर दायर याचिकाओं में कोई न कोई कमी है।

न्यायालय ने कश्मीर टाइम्स की कार्यकारी संपादक अनुराधा भसीन द्वारा दायर याचिका को भी देखा, जिसमें घाटी में मीडिया गतिविधियों में रियायत देने और संचार सेवाओं पर लगी रोक हटाने की मांग की गई है।

सीजेआई ने कहा, “मैंने मीडिया रपट में पढ़ा है कि लैंडलाइन और ब्रॉडलाइन पर प्रतिबंध आज शाम तक हटा दिए जाने की संभावना है।”

अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने यह कहकर प्रतिवाद किया कि प्रतिबंधों में ढील दी गई है। कश्मीर टाइम्स अपना जम्मू संस्करण बिना किसी बाधा के प्रकाशित कर रहा है।

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है यह याचिका दुर्भावना से प्रेरित है और इसलिए इन लोगों ने तुरंत ही निष्कर्ष निकाल लिया है।

घाटी में सुरक्षा स्थिति पर महाधिवक्ता तुषार मेहता ने वेणुगोपाल का साथ दिया।

मेहता ने कहा, “सुरक्षा एजेंसियां स्थिति का जायजा ले रही हैं और अदालत को अपनी एजेंसियों पर भरोसा करना चाहिए।”

शीर्ष अदालत ने मामले को रिकॉर्ड पर डालते हुए कहा कि याचिकाएं तकनीकी आधार पर दोषपूर्ण हैं।

शीर्ष अदालत ने कहा कि इन याचिकाओं को प्रशासनिक पक्ष पर प्रधान न्यायाधीश के आदेश के बाद अगले सप्ताह सूचीबद्ध किया जाएगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल: “पुलिस स्थिति संभालने में विफल, सेना को बुलाया जाए”

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आज सुबह कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी हिस्से में...

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के लिए 5-6 फिल्मों को अस्वीकार...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -