अग्न्याशय के बारे में जानकारी, कार्य प्रणाली, तथ्य


अग्न्याशय (Pancreas) उदर भाग में पाया जाने वाला एक अंग है जो पेट के पीछे स्थित रहता है, और लिवर तथा छोटी आंत से घिरा हुआ है।

यह लगभग 15 सेमी लम्बा और समतल प्रकार का है। भोजन को पचाने में और खून के शुगर को नियंत्रण करने में इनका महत्वपूर्ण योगदान है।

अग्न्याशय की कार्य प्रणाली (Function of Pancreas in Hindi)

इस अंग के दो महत्वपूर्ण कार्य हैं:

  • वे एंजाइम बनाना जो आँतों में कार्बोहायड्रेट, प्रोटीन एवं फैट को पचाने में सहायक हैं।
  • इन्सुलिन और glucagon हॉर्मोन का निर्माण

इन्सुलिन खून में ग्लूकोस की मात्रा को कम करने का काम करता है। इससे शरीर में शुगर level कम रहता है जिससे कोशिकाएं अपने काम के लिए ग्लूकोस का उपयोग कर पाते हैं।

function of pancreas in hindi

इन्सुलिन के कारण ही ग्लूकोस दूसरे मांसपेशियों और ऊतकों को प्रवाहित किये जाते हैं। लिवर में इस हॉर्मोन को संग्रहित किया जाता है जिसके कारण फैटी एसिड का संश्लेषण होता है और एमिनो एसिड का प्रवाहन हो पाता है।

जब प्रोटीन पच जाता है और कार्बोहायड्रेट वाला खाना पेट में जाता है, तब इन्सुलिन प्रवाहित होता है और शरीर में ग्लूकोस की मात्रा बढ़ने लगती है।

अगर अग्नाशय से इन्सुलिन का प्रवाहन नहीं होगा तो type I डायबिटीज हो सकता है। अग्नाशय से निकलने वाला दूसरा हॉर्मोन glucagon खून में शुगर level बढ़ाने का काम करता है। इन्सुलिन और glucagon एक साथ मिलकर खून में शुगर की मात्रा बना के रखते हैं।

अग्न्याशय का दूसरा महत्वपूर्ण काम है – पाचन के लिए उपयोगी द्रव्यों का निर्माण करना एवं एवं उसे प्रवाहित कर देना। जब खाना पेट में आता है, तो pancreatic जूस अग्नाशय में पाए जाने वाले छोटे छोटे duct के द्वारा bile duct में जाता है और फिर पित्ताशय (gall bladder) जहाँ वे bile जूस के साथ मिल जाते हैं जिससे पाचन में सहायता होती है।

अग्न्याशय से सम्बंधित बीमारियां (Diseases Related to Pancreas in Hindi)

कभी कभी अग्न्याशय ठीक से काम करना बंद कर देता है, जिसके कारण कई बीमारियां हो सकती हैं। अग्न्याशय की कुछ प्रमुख बीमारियां इस प्रकार हैं:

  • पैन्क्रीअटाइटिस (pancreatitis)

जब अग्न्याशय में सूजन आ जाता है, तो इस बीमारी के होने की सम्भावना रहती है। इस कारण पाचन में काम आने वाले एंजाइम अग्नाशय के अंगो को ही पचाना शुरू कर देते हैं। इस बीमारी के दो प्रकार हैं – acute पैन्क्रीअटाइटिस एवं chronic पंचराटाइटिस।

  • एक्यूट पैन्क्रीअटाइटिस (acute pancreatitis)

जब अग्न्याशय में बहुत दर्द हो रहा हो, तो acute पैन्क्रीअटाइटिस की सम्भावना रहती है। दर्द के कारण यह अंग उदर (abdomen) की ओर सिकुड़ जाता है। अगर अग्न्याशय में दर्द हो रहा हो, यह इस बात का संकेत है कि कोई जॉन्डिस का शिकार हो।

  • पैंक्रिअटिक कैंसर (pancreatic cancer)

इस प्रकार के कैंसर को जल्दी पहचान पाना मुश्किल रहता है।  इसके प्रमुख लक्षण हैं – पेट में दर्द होना, वजन कम होना, उल्टी होना, पाचन सम्बन्धी शिकायतें आदि। धूम्रपान, डायबटीज, पैन्क्रीअटाइटिस आदि भी इसके कारण हैं। कैंसर ज्यादातर समय उस भाग से पनपना शुरू होता है, जहाँ पाचन प्रक्रिया के लिए हॉर्मोन बनते हैं।

अर्टिफिशियल अग्न्याशय (artificial pancreas)

अगर किसी व्यक्ति का अग्न्याशय ठीक से काम नहीं करता या पूरी तरह से काम करना बंद कर चुका है, तो ऐसे में डॉक्टर उन्हें अर्टिफिशियल पैंक्रिया लगा देते हैं।

इसके कारण खून में ग्लूकोज़ की मात्रा ली जाती रहती है और उस अनुसार व्यक्ति को इन्सुलिन डोज़ दिया जाता है।

आप अपने सवाल एवं सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में व्यक्त कर सकते हैं।

Watch related video on: Power Sportz

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here