दा इंडियन वायर » समाचार » अगस्त में फिर महगाई में फिर दर्ज की गयी बढोत्तरी; 11.39 प्रतिशत पर पहुंचा डब्लूपीआई
अर्थशास्त्र समाचार

अगस्त में फिर महगाई में फिर दर्ज की गयी बढोत्तरी; 11.39 प्रतिशत पर पहुंचा डब्लूपीआई

थोक कीमतों में मुद्रास्फीति अगस्त में बढ़कर 11.39% हो गई जो लगातार पांचवें महीने से दोहरे अंकों में ही रही है। विनिर्मित उत्पादों में मुद्रास्फीति लगातार चौथे महीने बढ़कर 11.4% हो गई क्योंकि उच्च ईंधन की कीमतों के दूसरे क्रम के प्रभाव में कमी आई थी।

ईंधन और बिजली मुद्रास्फीति जुलाई में गिरावट के बाद अगस्त में 26.1 प्रतिशत तक मजबूत हुई, भले ही खाद्य मूल्य मुद्रास्फीति 4.46 प्रतिशत से घटकर 3.43% हो गई।

इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के प्रमुख अर्थशास्त्री सुनील कुमार सिन्हा ने कहा कि, “एलपीजी, पेट्रोल और डीजल में क्रमश: 48.1%, 61.5% और 50.7% की मुद्रास्फीति देखी गई।” उन्होंने जोर देकर कहा कि उच्च ईंधन मुद्रास्फीति सभी क्षेत्रों में संचारित होती है क्योंकि वे परिवहन, इनपुट और मजदूरी लागत को बढ़ाते हैं।

कोर डब्लूपीआई मुद्रास्फीति, जो ईंधन और भोजन को छोड़ देती है, 15 महीने की निरंतर सख्त लकीर को जारी रखते हुए 11.1% के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई। मई में 13.11% के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद कुल मिलाकर थोक मुद्रास्फीति जुलाई में 11.16% पर आ गई थी।

महीने-दर-महीने आधार पर थोक मूल्य सूचकांक (डब्लूपीआई) अगस्त में तीन महीने की क्रमिक वृद्धि के बाद लगभग 1.04% बढ़ा।

अर्थशास्त्री देवेंद्र पंत ने कहा कि मूल्य सूचकांकों की प्रकृति के कारण डब्लूपीआई और सीपीआई के बीच हमेशा एक डिस्कनेक्ट रहेगा क्योंकि सीपीआई में खाद्य पदार्थों और डब्लूपीआई में विनिर्मित वस्तुओं के लिए वेटेज अधिक है। देवेंद्र पंत ने कहा कि खाद्य कीमतों में गिरावट के कारण खुदरा मुद्रास्फीति में गिरावट आई है जबकि विनिर्मित वस्तुओं की ऊंची कीमतों के कारण थोक मुद्रास्फीति बढ़ी है।

आईसीआरए की प्रमुख अर्थशास्त्री अदिति नैयर ने कहा कि इससे पहले कि साल-दर-साल मुद्रास्फीति दिसंबर 2021 से फिर से उभरे आधार प्रभाव नवंबर 2021 तक प्राथमिक खाद्य पदार्थों को अवस्फीति की ओर ले जाने की संभावना है।

कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, ईंधन और बिजली के लिए मुद्रास्फीति पिछले महीने के स्तर पर अगस्त 2021 में काफी हद तक स्थिर थी, जबकि प्राथमिक और विनिर्मित दोनों खाद्य पदार्थों में खुदरा खाद्य मुद्रास्फीति में मॉडरेशन के अनुरूप मुद्रास्फीति के दबाव में नरमी दर्ज की गई थी।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!