दा इंडियन वायर » अर्थशास्त्र » अगस्त महीने में कोर सेक्टर के उत्पादन में 11.6% की वृद्धि; सीमेंट उत्पादन में 36% का उछाल
अर्थशास्त्र विदेश

अगस्त महीने में कोर सेक्टर के उत्पादन में 11.6% की वृद्धि; सीमेंट उत्पादन में 36% का उछाल

अगस्त में लगातार दूसरे महीने भारत के कोर क्षेत्र के उत्पादन में दो अंकों में वृद्धि हुई। इस महीने उत्पादन में 11.6% की वृद्धि हुई, जो कि एक साल पहले इस महीने के 6.9% संकुचन से आंशिक रूप से तेज़ी से बढ़ा। उर्वरकों और कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट के बावजूद आठ में से चार क्षेत्रों में दो अंकों की मजबूत वृद्धि दर्ज की गई।

अगस्त में उत्पादन कोरोना से पूर्व अगस्त 2019 के स्तर से 3.9% अधिक था और पूर्व-महामारी जुलाई 2019 की तुलना में 1.6% की वृद्धि तेज़ी देखि गयी।

आर्थिक सलाहकार कार्यालय, उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के आंकड़ों से पता चला कि अगस्त 2020 में 14.5% संकुचन की तुलना में सीमेंट उत्पादन में 36% की वृद्धि हुई, जबकि कोयले और प्राकृतिक गैस ने समान 20.6% की वृद्धि दर्ज की। बिजली और रिफाइनरी उत्पादों में क्रमशः 15.3% और 9.1% की वृद्धि हुई, और इस्पात उत्पादन में 5.1% की वृद्धि हुई।

आईसीआरए की मुख्य अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि रिफाइनरी उत्पादों और कच्चे तेल को छोड़कर सभी उप-क्षेत्रों में पूर्व-कोरोना ​​​​स्तरों से ऊपर उत्पादन देखा गया। उन्होंने कहा कि, “बारिश की सुस्ती ने कोयला, सीमेंट और बिजली के विकास को समर्थन दिया है जबकि उच्च गतिशीलता ने पेट्रोलियम उत्पादों को बढ़ावा दिया।”

कोर सेक्टर का उत्पादन जुलाई में 9.9% और जून में 9.3% बढ़ा था।

केयर के मुख्य अर्थशास्त्री मदन सबनवीस ने कहा कि स्टील और सीमेंट में तेजी का श्रेय उच्च सरकारी खर्च और निर्माण गतिविधि को दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि उच्च बिजली उत्पादन अर्थव्यवस्था में सामान्य उछाल वाली गतिविधि को दर्शाता है और इससे खनन में भी उत्पादन में वृद्धि होगी।

मदन सबनवीस ने आगे कहा कि, “कुल मिलाकर कोर सेक्टर की वृद्धि उत्साहजनक है क्योंकि यह वर्ष के दौरान और तेजी की ओर इशारा करता है क्योंकि सरकार अधिक खर्च करने के लिए नीचे जाती है।” वहीं अदिति नायर ने आगाह किया कि खनन, निर्माण और बिजली में लाभ सितंबर की बारिश से धुल जाने की संभावना है, भले ही पिछले साल के लॉकडाउन से नकारात्मक आधार का सांख्यिकीय प्रभाव सामान्य हो गया हो।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!