Mon. Apr 15th, 2024
    kannur-international airport

    रविवार को केरल के कन्नूर में अन्तराष्ट्रीय एयरपोर्ट के उदघाटन के बाद के बाद केरल चार अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट वाला पहला राज्य बन गया है।

    केन्द्रीय विमानन मंत्री सुरेश प्रभु और केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने संयुक्त रूप से उद्घाटन में 186 यात्रियों को लेकर अबू धाबी जाने वाली एयर इण्डिया के फ्लाईट को झंडी दिखाई।

    केरल में तीन अंतररष्ट्रीय एयरपोर्ट थिरुवनंतपुरम, कोच्ची और कोझिकोड पहले से ही है।

    एअरपोर्ट न केवल मालाबार और कन्नूर की सांस्कृतिक परंपराओं को दर्शाता है बल्कि पड़ोसी कर्नाटक में कोडागु की संस्कृति को भी दर्शाता है। कोडागु में विराजपेट नवनिर्मित एयरपोर्ट से सिर्फ 58 किमी दूर है, जबकि जिला मुख्यालय मडिकेरी लगभग 90 किमी दूर है।

    एयरपोर्ट की दीवारों पर मालाबार और भारतीय नृत्य रूपों की विरासत को दर्शाते हुए चित्र, उत्तरी केरल के थेयम, कथकली और कर्नाटक के पारंपरिक रंगमंच कला रूप यक्षगाना भी मुख्य आकर्षण है। उद्घाटन समारोह में बोलते हुए केन्द्रीय विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि ग्रीनफ़ील्ड हवाई अड्डे से राज्य विशेष रूप से उत्तरी क्षेत्र के समग्र विकास और समृद्धि के लिए मार्ग प्रशस्त होने की उम्मीद है।

    प्रभु ने कहा “सार्वजनिक-निजी साझेदारी (पीपीपी) मॉडल पर बने कन्नूर हवाई अड्डे ने देश में एयरपोर्ट का निर्माण के क्षेत्र में नया मानक स्थापित किया है।” उन्होंने कहा कि इस एयरपोर्ट से खाड़ी देशों में रहने वाले केरलवासियों को नौकरी और केरल के पर्यटन के क्षेत्र में काफी मदद मिलेगी।

    मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने राज्य की मांग को पूरा करने में सहयोग के लिए तारीफ़ की। विजयन ने कहा कि इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सकारात्मक पहल की भी तारीफ़ की।

    विपक्षी पार्टी यूडीएफ और भाजपा ने उद्घाटन समारोह का बहिष्कार किया। यूडीएफ ने पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी को कार्यक्रम के लिए निमंत्रित न करने को लेकर कार्यक्रम का बहिष्कार किया। कई राज्यमंत्री और अनिवासी उद्द्योगपति एम ए यूसुफ़ भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहे।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *