दा इंडियन वायर » खेल » भारत के डबल ट्रैप शूटर खिलाड़ी अंकुर मित्तल क्रेंदीय नीति से असंतुष्ट
खेल

भारत के डबल ट्रैप शूटर खिलाड़ी अंकुर मित्तल क्रेंदीय नीति से असंतुष्ट

पूर्व विश्व नंबर एक डबल ट्रैप शूटर अंकुर मित्तम ने सोमवार को केंद्रीय नीति पर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा संक्रमण के लिए सरकार से कोई सहायता नहीं मिली।

मित्तल ने एनआई से बात करते हुए कहा, ” पिछले साल सितंबर में मैंने विश्व चैंपियनशिप जीती थी, तो उसके बाद ट्रैप सीनियर टीम में जगह बनाने के लिए मुझे पर्याप्त समय नही दिया गया। यही एक कारण है जिसकी वजह से मैं ट्रैप सीनियर टीम में अपनी सीट बुक नही कर पाया। यह मेरे लिए खामी है क्योंकि 2020 ओलम्पिक में ट्रैप नहीं हैं।”

आगे आने वाले तीन विश्वकप के लिए टीम को अंतिम रूप दिया गया है, मित्तल का कहना है, ” अगर मैं नही तो निश्चित रूप से किसी और को इंडिया के लिए यह कोटा दिया जाना चाहिए। अगले साल नीति के अनुसार लड़ाई होगी और उन्हें अनुग्रह चिह्न मिलेगा क्योंकि उनके पास कोटा है। अगले नेशनल्स के बाद पता चलेगा कि किसे ओलंपिक के लिए भेजा जाएगा।”

पूर्व विश्व नंबर एक खिलाड़ी ने डबल ट्रैप पर कई ऊचाईयां हासिल की है, मित्तल का कहना है, समय के सही निवेश के साथ-साथ बहुत सारे पैसे शुरू करना आवश्यक है।

सरकार को इस साल के लिए टॉप डबल शूटर भेजना चाहिए था। यही हमारी नीति में कुछ खामिया है अगर वह इसको सही तरीके से संशोधित करते है मुझे लगता है हम अच्छा कर सकते है।

मित्तल ने आगे कहा, ” तीन शूटर को अंतिम रूप से चुना गया है। लेकिन मेरे दृष्टिकोण में उन्हे उन शूटर को चुनना चाहिए था, जिनके पास पहले से कोटा है क्योंकि इससे एथलीट के ऊपर कोई दबाव नही रहता और इससे उन्हें ओलंपिक के लिए अभ्यास करने के लिए पर्याप्त समय मिलता।”

मित्तल जिन्होने इससे पहले मेक्सिको में भाग लिया था, वह इस समय टीम में नही है। इस बार इसमें कुल मिलाकर पांच एथलीट भाग ले रहे है, जिसमें से 2 खिलाड़ी अधिक है।

About the author

अंकुर पटवाल

अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!