दा इंडियन वायर » शिक्षा » होली पर निबंध: त्योहार, महत्व और कहानी
शिक्षा

होली पर निबंध: त्योहार, महत्व और कहानी

होली पर निबंध

होली का त्यौहार रंगों का त्यौहार है। इस साल होली 1 मार्च 2018 को मनाई जायेगी। इसके अगले दिन 2 मार्च को दुलहंडी मनाई जायेगी। इस लेख में हम होली का एक निबंध लिख रहे हैं, जिसे छात्र पढ़कर उपयोग कर सकते हैं। इस निबंध को स्कूलों में भी बोला जा सकता है।


होली पर निबंध

होली एक ऐसा त्योहार है जिसका नाम सुनते ही हमारे मन मे रंगो का प्रतिबिम्ब बन जाता है। यह त्योहार पूरे भारत मे धूम धाम से मनाया जाता है। यह त्योहार फाल्गुन माह यानी मार्च के महीनें मे मनाया जाता है। इस त्योहार को खुशी, जश्न और मौज मस्ती का त्योहार कहा जाता है।

होली का त्योहार रंगो के त्योहार के नाम से भी जाना जाता है। छोटी होली के दिन पूजा की जाती है, और दुलहंडी के दिन रंगो और पानी के साथ होली के पर्व को धूम धाम से मनाया जाता है। इस त्योहार को रंगो से भरा त्योहार माना जाता है। यह त्योहार हिंदु धर्म मे बेहद महत्व रखता है। भारत और भारत के कुछ पडोसी देशो मे यह त्योहार पूरी श्रद्धा और पूरे जोश के साथ मनाया जाता है।

हर धर्म के लोग इस अनोखे त्योहार को प्रेम के साथ मनाते है। इस त्योहार के साथ वसंत का समय भी शुरू हो जाता है। वसंत के माह मे पूरा पर्यावरण बेहद खूबसूरत हो जाता है। पौधो पर नए फूल आ जाते है जिससे प्रकृति की खूबसूरती निखर जाती है।

होली का पर्व

फाल्गुन माह के अंतिम दिन पर होली मनाई जाती है। सभी लोग विभिन्न प्रकार की लकड़ियां इकट्ठा करते है और रात के समय मिलजुल कर भुसे और लकडी के बडे ढेर मे आग लगा कर त्योहार मनाते है और पूजा करते है। सभी लोग ढोलक और ढोल को बजा कर गाने गाते और नाचते है। जैसे ही होली के ढेर का दहन हो जाता है सभी लोग वापस अपने घर चले जाते है।

दूसरे दिन मुख्य त्योहार पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। सभी लोग आपस मे रंग लगा कर बधाई देते है। गले मिलते है, बडे बुर्जुर्ग आशीर्वाद देते है और हम उम्र लोग आपस मे रंगो और पानी के साथ त्योहार का आनंद लेते है। सभी लोग सारे मतभेद भूल कर होली खेलते है उस समय कोई दूसरे धर्म का नही होती कोई अमीरी गरीबी नही होती सभी लोग मिलकर बस जशन मनाते है। छोटे बच्चे सभी पर रंगीन पानी से भरी पिचकारी से पानी डालते है।

होली के दिन हर कोई खुशी से झूम रहा होता है वे नाचने, गाने और उत्सव मनाने मे व्यस्त होते है। शाम के समय सब अपने दोस्तो और रिशतेदारो से मिलने उन्के घर जाते है। होली के थकावट भरे जशन के बाद लजीज पकवानो से सभी अपना पेट भरते है।

होली क्यो मनाते है?

होली का त्योहार मनाने के पीछे एक बहुत पुरानी और मनोरंजक कहानी जुड़ी है।

होली त्योहार को अपना नाम होलिका से मिला जो राक्षस हिरणयकश्यप की बहन थी। हिरणयकश्यप को भगवान विष्णु से यह वरदान मिला था कि उसे न कोई दिन मे मार सकता है ना ही रात मे, उसे ना कोई मनुष्य मार सकता है ना ही कोई जानवर, उसकी मृत्यु घर मे नही होगी और बाहर भी नही, वो ना ही जमीन पर मरेगा ना ही आसमान मे। इस वरदान के कारण हिरणयकश्यपम अत्यधिक घमंड आ गया और उसने ऐलान कर दिया कि सभी लोग मेरी पूजा करेंगे भगवान की पूजा नही होगी।

परंतु भक्त प्रहलाद ने अपने पिता के वचनो का पालन नही किया और भगवान विष्णु की भक्ति की जिससे हिरणयकश्यप को क्रोध आ गया। हिरणयकश्यप ने यह आदेश दिया कि प्रहलाद को पहाड से फेक दिया जाए परंतु प्रहलाद को कोई चोट नही लगी। राक्षस हिरणयकश्यप ने प्रहलाद को कुए मे फिकवाया परंतु उसे खरोच तक नही आई, बाद मे हिरणयकश्यप ने प्रहलाद को जहर दिया और वो जहर शहद मे बदल गया। विशालकाय हाथीयो को प्रहलाद के पीछे छोडा गया पर प्रहलाद को कोई हानि नही हुई।

अगली बार प्रहलाद के पिता ने सांपो के बंद कमरे मे प्रहलाद को बंद कर दिया पर प्रहलाद जीवित वापस आ गया। अंत मे हिरणयकश्यप ने अपनी बहन होलिका को बुलाया और उसे कहा कि तुम प्रहलाद को लेकर आग मे बैठ जाओ। होलिका को आग से बचाने के लिए एक शोल दे दिया गया था। पर एक हवा के झोके से शोल प्रहलाद पर आ गिरा और होलिका का शोल हट गया जिसके कारण प्रहलाद बच गया और होलिका बच गई। भगवान विष्णु ने एक ऐसा अवतार लिया जो ना तो इंसान था और ना ही जानवर।

वह अवतार आधा मनुष्य था और आधा शेर था उस अवतार ने हिरणयकश्यप को शाम के समय उसके घर की दहलीज पर मार गिराया। इसलिए हर वर्ष होलिका दहन होता है और दर्शाता है कि बुराई हमेशा हारती है। होली को होलिका दहन के अगले दिन मनाया जाता है। होली मनाने का एक कारण यह भी है कि यह वसंत की शुरूआत का संदेश देती है। नई उर्जा और नए जीवन की महत्वता यह त्योहार बताता है।

होली का महत्व

होली हिंदु धर्म का प्रमुख त्योहार है। यह एक मौज मस्ती और ऊर्जा से भरा त्योहार है। यह त्योहार हमे दोस्ती करने व अच्छे काम करने के लिए प्रेरित करता है। यह पर्व हमे सीखाता है कि अगर हम एक दिन के लिए सभी भेदभाव, लडाई झगडे भूल जाए, अमीरी गरीबी का फर्क भूल जाए तो हम खुशी खुशी रह सकते है।

होली के कुछ ‘रावण’

होली के दिन कुछ लोग शराब पीकर इस सुंदर पर्व को खराब करते है। कुछ लोग बदतमीजी से व्यवहार करते है और हानिकारक रंगो का प्रयोग करते है।

इसके अलावा कई लोग जश्न के नाम पर लोगों को परेशान करते हैं। ऐसे में हमें ऐसे लोगों से दूर रहना चाहिए।

अंत मे बस इतना ही कि हमे अपनी सेहत और त्वचा का ध्यान रख कर होली खेलनी चाहिए। सभी को अपनी आँखों का ध्यान रखना चाहिए। पानी की बरबादी कम करे। इस खुशनुमे त्योहार को बेहद प्यार से मनाए और मिठाइयाँ बांटकर खुशियाँ फैलाएं।

अंत में, आपको होली पर यह निबंध कैसा लगा? हमनें नीचे कमेंट में बताएं।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!