सोमवार, फ़रवरी 17, 2020

हंबनटोटा बंदरगाह पर चीन का कब्जा, संकट में घिर सकता है भारत, ​जानिए कैसे

Must Read

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन...

श्रीलंका ने शनिवार को अपने दक्षिणी बंदरगाह हंबनटोटा को 99 वर्ष के लिए चीन को लीज पर देने की औपचारिक घोषणा कर दी। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, हंबनटोटा बंदरगाह का प्रंबंधन दो चीनी फर्म हंबनटोटा इंटरनेशनल पोर्ट ग्रुप (एचआईपीजी) और हंबनटोटा इंटरनेशनल पोर्ट सर्विसेज (एचआईपीएस) के हाथों में होगा। श्रीलंका को हंबनटोटा बंदरगाह को पट्टे पर देने के बदले चीन से अभी शुरूआती भुगतान बतौर 300 मिलियन अमेरिकी डॉलर प्राप्त हुए है।

इससे पूर्व हंबनटोटा बंदरगाह संचालन के लिए श्रीलंका को 8 प्रस्ताव मिल चुके थे, जिसमें भारत भी शामिल था। दरअसल श्रीलंका की जनता भी नहीं चाह रही थी कि सरकार हंबनटोटा बंदरगाह को चीन के हाथों बेचे। इसके लिए बौद्ध भिक्षुओं सहित श्रीलंका की जनता ने सड़कों पर विरोध-प्रदर्शन भी किया था। आखिरकार चीनी ड्रैगन हंबनटोटा बंदरगाह पर कब्जा जमाने में सफल हो ही गया।

भारत के खिलाफ चीन की मंशा

सामरिक दृष्किोण से

आप को बता दें कि हंबनटोटा बंदरगाह कोलंबो से 250 किमी दूर दक्षिण मेें स्थित है। 209 मिलियन डॉलर की लागत से बने हंबनटोटा एयरपोर्ट में 190 मिलियन डॉलर चीन की तरफ से लगे हैं। अब हंबनटोटा बंदरगाह को चीन द्वारा अधिगृहित करते ही भारत के लिए खतरे की घंटी बजनी शुरू हो गई है।

चीन शुरू से ही इस बंदरगाह को अपने अधिकार में लेकर भारत को सामरिक रूप से समुद्री मार्ग के जरिए घेरने की योजना बना रखी थी, शायद अब यह देश अपने रणनीति में सफल होता दिखाई दे रहा है। हांलाकि चीन ने 1400 एकड़ भूमि पर फैले हंबनटोटा बंदरगाह को इंडस्ट्रियल जोन विकसित करने के नाम पर श्रीलंका से लिया है, लेकिन सच्चाई यह है कि चीन इस बंदरगाह का उपयोग कुछ दिनों बाद अपने सैन्य गतिविधियों के लिए कर सकता है।

हंबनटोटा बंदरगाह

आशंका जताई जा रही है कि हंबनटोटा बंदरगाह हिंद महासागर में चीन के ‘वन बेल्ट वन रोड’ पहल में प्रमुख भूमिका निभाएगा।
हांलाकि इस बंदरगाह के सुरक्षा की जिम्मेदारी पूरी तरह से श्रीलंका की नौसेना करेगी। ऐसा माना जा रहा है कि श्रीलंका ने भारत की सामरिक चिंताओं को ध्यान में रखकर हंबनटोटा बंदरगाह को चीन के नाम किया है।

लेकिन यह बात हमें नहीं भूलनी चाहिए कि श्रीलंका की सरकार चीन के साथ कदमताल करने का तैयार दिख रही है। श्रीलंका की राजधानी कोलंबों में टाटा ग्रुप के नामचीन होटल ताज के अलावा चारो तरफ चीनी की इमारतें और कारीगरी की छाप दिखाई दे रही है। भारत श्रीलंका को अपना दक्षिणी तट ही मानता है। ऐसे में यहां पर चीन की मौजूदगी भारत के लिए चिंता का सबब है।

व्यापारिक दृष्टिकोण

दक्षिण सागर से भारत के व्यापारिकर और आर्थिक हित पूरी तरह से जुड़े हुए हैं। आपको जानकारी के लिए भारत का 55 फीसदी समुद्री व्यापार इसी इलाके से होता है। भारत ही नहीं पूरी दुनिया एक तिहाई व्यापार इसी इलाके से होकर गुजरता है। इस प्रकार केवल भारत ही नहीं व्यापार करने वाले अधिकांश देशों हित दक्षिण सागर से जुड़े हुए है।

हंबनटोटा बंदरगाह व्यापारिक दृष्टिकोण से काफी मायने रखता है, विशेषकर पश्चिम एशिया से आने वाले कच्चे तेल के जहाज इसी रास्ते से होकर गुजरते हैं। और यह बात हम सभी जानते हैं कि आर्थिक दृष्टिकोण चीन भारत से बहुत ज्यादा आगे निकल चुका है। ऐसे में हंबनटोटा बंदरगाह के जरिए चीन इस रूट पर काबिज होकर भारत के लिए रूकावटें पैदा कर सकता है।

ठीक इसके विपरीत यह बात भी ध्यान देने योग्य है कि यदि भारत और चीन में टकराव की ऐसी स्थिति आएगी तो इनके आपसी व्यापार में 50 अरब डालर का नुकसान हो सकता है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए संशोधित...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की टिप्पणियों का जवाब दिया...

शाहीन बाग़ के लोगों ने वैलेंटाइन डे पर प्रधानमंत्री मोदी को दिया न्योता

शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शुक्रवार को उनके साथ वेलेंटाइन डे मनाने और आने का निमंत्रण...

हार्दिक पटेल 20 दिनों से लापता, पत्नी किंजल पटेल का आरोप

पाटीदार समुदाय के नेता हार्दिक पटेल (Hardik Patel) अपनी पत्नी किंजल पटेल के अनुसार 20 दिनों से लापता हैं, जिन्होंने गुजरात प्रशासन पर अपने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -