Thu. May 23rd, 2024
    स्वच्छ भारत अभियान और मोदी

    आज से ठीक तीन साल पहले यानि वर्ष 2014 में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत की थी। आज की तारीख में मोदी का यह अभियान सफलता की ओर अग्रसर होता दिखाई दे रहा है। आप को बता दें कि स्वच्छ भारत अभियान के शुभारंभ से लेकर साल 2017 के बीच देश की स्वच्छता कवरेज लगभग दोगुनी हो चुकी है।

    विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम से स्वच्छता को बढ़ावा

    पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय ने स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए शौचायलयों के इस्तेमाल से लेकर अन्य संवेदनशील जानकारियां प्रदान कर रहा है। इस मंत्रालय ने देश में शिक्षा और स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए देशभर में कई जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित करवाए।

    मंत्रालय के मुताबिक, देश में स्वच्छ भारत ​अभियान को सफल बनाने के लिए डोर टू डोर कचहरा संग्रह योजना, स्वच्छता रथ के अलावा ग्रामीण भारत के पिछड़े इलाकों में शिक्षा और स्वच्छता के बारे में जानकारी देने के लिए पेंटिंग प्रतियोगिताएं, रैलियां, मैराथन तथा प्रश्नोत्तरी एवं जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करना शामिल है।

    निजी शौचालयों का निर्माण

    देश में स्वच्छता को बढ़ावा देने ​के लिए खुद मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में शौचालय की नींव रख लोगों को प्रेरित किया। साल 2014 में 568.15 लाख व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण किया गया। तब से लेकर साल 2017 तक स्वच्छता कवरेज में 35.45 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि 2 अक्टूबर 2014 को देश की स्वच्छता कवरेज 38.70 प्रतिशत दर्ज की गई जो 18 दिसंबर 2017 तक बढ़कर 74.15 फीसदी हो गई है।

    स्वच्छ भारत

    शौच मुक्त राज्य

    केंद्र सरकार ने आठ राज्यों को शौच मुक्त घोषित कर दिया है। जिनमें सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, केरल, उत्तराखंड, हरियाणा, गुजरात, चंडीगढ़ और दमन और दीव का नाम शामिल है।

    साल 2019 तक देश को शौच मुक्त बनाने के लिए सरकार विभिन्न मंत्रालयों, राज्य सरकारों, स्थानीय संस्थानों, गैर-सरकारी संगठनों, एनजीओ, मीडिया और अन्य हितधारकों के साथ मिलकर काम कर रही है।

    स्वच्छता के लिए विशेष बजट

    वित्त मंत्रालय की ओर से स्वच्छता अभियान के लिए एक अलग से बजट का प्रावधान किया गया है। वित्तीय साल 2017-18 के दौरान वित्त मंत्रालय ने करीब 77 मंत्रालयों तथा विभागों को स्वच्छ कार्य योजना के लिए 12,468.62 करोड़ रुपए धन आवंटित किए।

    पर्यटन स्थलों पर भी विशेष ध्यान

    स्वच्छता मिशन के तहत मोदी सरकार ने देश के लगभग 100 पर्यटन स्थलों को चिन्हित कर उनकी साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया है। इसके लिए कई कॉर्पोरेट्स और पीएसयू साथ मिलकर देश की विरासत, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक स्थलों पर स्वच्छ और सुंदर बनाने का कार्य कर रहे हैं।