बुधवार, फ़रवरी 19, 2020

सीपीईसी के तहत चीन-पाकिस्तान साल 2030 तक रहेंगे आर्थिक साझेदार

Must Read

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...

पाकिस्तानचीन ने सोमवार को चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) की दीर्घकालिक योजना का सार्वजनिक रूप से अनावरण किया। सीपीईसी के लिए दीर्घकालिक योजना पहले ही बन चुकी थी लेकिन सोमवार को इसे सार्वजनिक करते हुए बताया गया कि इस योजना में किन-किन योजनाओं को शामिल किया है।

पाकिस्तान के योजना मंत्री एहसान इकबाल और पाकिस्तान में चीनी राजदूत याओ जिंग ने इस्लामाबाद में एक समारोह के दौरान दीर्घकालिक सीपीईसी योजना को सार्वजनिक किया।

दीर्घकालिक योजना में बताया गया कि चीन व पाकिस्तान साल 2030 तक आर्थिक साझेदार रहेंगे। पाकिस्तान में बुनियादी ढ़ांचे से लेकर सूचना प्रौद्योगिकी तक के क्षेत्रों में चीन व पाकिस्तान द्वारा साल 2030 तक मिलकर आर्थिक विकास व सहयोग किया जाएगा। यह पहली बार हुआ है जब चीन व पाकिस्तान ने सीपीईसी की दीर्घकालिक योजना को सार्वजनिक किया है।

सार्वजनिक किए गए दस्तावेजों में ऋण शर्तों की जानकारी नहीं

सार्वजनिक किए गए दस्तावेजों में परियोजनाओं, निवेश व ऋण से संबंधित महत्वपूर्ण शर्तों के बारे में विशिष्ट जानकारी नहीं दी है। साथ ही पाकिस्तान में पहले से चल रही विशेष आर्थिक क्षेत्रों के लिए विवरण प्रदान भी नहीं किया है।

इस दीर्घकालिक योजना के तहत सड़क व रेल संरचना, सूचना नेटवर्क के बुनियादी ढांचे, ऊर्जा, व्यापार और औद्योगिक पार्क, कृषि, गरीबी उन्मूलन और पर्यटन सहित अन्य क्षेत्रों का पाकिस्तान में विकास करना शामिल हुआ है। इसमे ग्वादर बंदरगाह का विकास करना भी शामिल है।

इस योजना के तहत मंत्री एहसान इकबाल ने संकेत दिए है कि बहुत जल्द चीन व पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय व्यापार में अमेरिकी डॉलर की जगह चीनी मुद्रा युआन को जगह दी जा सकती है।

मंत्री ने कहा है कि चीनी मुद्रा रेनमिनबी (युआन) को अपनाने पर पाकिस्तान के हितों में कोई टकराव नहीं होगा। हम अभी अमेरिकी डॉलर की जगह रेनमिनबी के उपयोग करने की जांच कर रहे है। संभावना है कि बहुत जल्दी इसका उपयोग किया जा सकेगा।

 

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही तैयारी भारतीयों की "गुलाम मानसिकता"...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए संशोधित...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की टिप्पणियों का जवाब दिया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -