Mon. Mar 4th, 2024
    हिमाचल प्रदेश

    बीजेपी ने आख़िरकार गुजरात विधानसभा में 100 का आंकड़ा पार कर ही लिया। रत्नसिंह राठौड़ ने बीजेपी को बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान कर दिया है जिससे पार्टी अब 182 सदस्यीय विधानसभा में 100 विधायकों का समर्थन हासिल करने में कामयाब हो गयी है।

    गौरतलब है कि गुजरात विधानसभा जीतने के बाद भी बीजेपी खुश नहीं थी। कारण था पिछले 22 सालों में पहली बार 100 का आंकड़ा ना पार कर पाना। गुजरात में इस बार पार्टी एक विधायक की कमी की वजह से 100 का आंकड़ा नहीं पूरी कर पाई और 99 पर ही सिमट कर रह गयी।

    बीजेपी की इस हालत पर विपक्ष ने 99 का फेर बोलकर तंज भी कसा था मगर अब निर्दलीय नेता रत्नसिंह राठौड़ के बिना शर्त समर्थन मिलने की वजह से हालत बदल गए है। बता दे कि किसी समय में रत्नसिंह राठौड़ कांग्रेस के बड़े ही प्रिय नेता रह चुके है लेकिन इस चुनाव में टिकट ना मिलने के कारण वो पार्टी से अलग हो गए थे।

    रत्न सिंह का पत्र
    रत्न सिंह का पत्र

    राठौड़ ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया था जिसके वजह से उनको पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित भी कर दिया गया था। इन सब मुश्किलों के बावजूद रत्नसिंह चुनाव जीतने में सफल हुए। अब उन्होंने बीजेपी के साथ जुड़ने का फैसला कर लिया है। उन्होंने यह बात बीजेपी को एक पात्र के माध्यम से बताई है।

     

    1995

    121

    1998

    117
    2002

    127

    2007

    117

    2012

    115
    2017

    99

    गुजरात में बीजेपी का प्रदर्शन लगातार गिरता जा रहा है। हालंकि पार्टी हर विधानसभा चनुनव को जीतते आई है। गुजरात में पार्टी ने 1995 में बीजेपी को 121 सीटें, 1998 में 117 सीटें, 2002 में 127 सीटें, 2007 में 117 सीटें, 2012 में 115 सीटें और 2017 में 99 सीटें जीती हैं।