Sat. Oct 1st, 2022
    सायना नेहवाल

    भारतीय स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल ने विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) को जमकर लताड़ लगाई। आपको बता दें विश्व बैडमिंटन महासंघ ने 2018 के नये कार्यक्रम में शीर्ष खिलाड़ियों के लिए कम से कम 12 टूर्नामेंट में खेलना अनिवार्य कर दिया है और यदि कोई खिलाड़ी ऐसा नहीं करता है तो उसे जुर्माना भुगतना पड़ेगा। बुधवार को प्रीमियर बैडमिंटन लीग के उद्घाटन के अवसर पर बैडमिंटन खिलाड़ी ने कहा कि, “बीडब्ल्यूएफ का अगले साल का कार्यक्रम काफी लम्बा है, यह शीर्ष खिलाड़ियों के लिए बिलकुल भी उचित नहीं है” उन्होंने आगे कहा कि “अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने के लिए मुझे और समय की आवयश्कता है, मैं लगातार प्रतियोगिताओं को जीत नहीं सकती, मैं सिर्फ हिस्सा ले सकती हूं”।

    दरअसल, विश्व बैडमिंटन महासंघ के निर्णय से नाखुश भारतीय बैडमिंटन महिला खिलाड़ी सायना नेहवाल का कहना है कि “प्रीमियर बैडमिंटन लीग के बाद भी तीन टूर्नामेंट हैं और फिर विश्व चैंपियनशिप से पहले तीन सुपर सीरीज हैं, इसलिए मुझे समझ में नहीं आता कि बीडब्ल्यूएफ ने ऐसा कार्यक्रम क्यों तैयार करने का फैसला किया है, यह काफी लम्बा है और थकान भरा है, साथ में काफी चुनौतीपूर्ण भी है”।

    सायना ने प्रतियोगिताओं में बढ़ी ईनाम राशि को लेकर कहा कि “अगर बीडब्ल्यूएफ बैडमिंटन को टेनिस की तरह बनाने की कोशिश कर रहा है तो फिर ग्रैंडस्लैम की तरह साल में सिर्फ चार-पांच टूर्नामेंट होने चाहिए, जिसमें अधिक पैसा और कवरेज भी हो, यदि मैं बीडब्ल्यूएफ अध्यक्ष होती तो मैं यह करती. मैं अधिक इनामी राशि से खुश हूं लेकिन इतने सारे टूर्नामेंट, मुझे नहीं पता”।