Sat. Feb 4th, 2023
    भारत विदेश सचिव

    चीनी मामलों के विशेषज्ञ व चर्चित राजनियक विजय केशव गोखले को भारत के अगले विदेश सचिव के रूप में नियुक्त किया गया है। गोखले मौजूदा विदेश सचिव एस जयशंकर की जगह लेंगे।

    निवर्तमान विदेश सचिव एस जयशंकर का कार्यकाल 28 जनवरी 2018 को समाप्त होने जा रहा है। इसके बाद भारत के अगले विदेश सचिव का कार्यभार विजय केशव गोखले के हाथों में होगा।

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने सोमवार को गोखले की नियुक्ति को मंजूरी दी थी। विदेश सचिव के तौर पर गोखले का कार्यकाल दो साल का रहेगा। वर्तमान में एस जयशंकर विदेश मामलों के सचिव (आर्थिक संबंध) है।

    तीस साल के लंबे समय में विजय केशव गोखले ने जर्मनी, हांगकांग, वियतनाम, अमेरिका और चीन में अपनी सेवाएं दी है। जनवरी,1959 में जन्मे गोखले ने साल 1981 में भारतीय विदेश सेवा में शामिल होने से पहले दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में एमए पूरा किया।

    चीनी मामलों के अनुभवी

    एस जयशंकर की तरह ही विजय केशव गोखले को भी चीनी विशेषज्ञों में से एक माना जाता है। गोखले ने ताइवान व चीन में भारत के प्रतिनिधि के तौर पर अपनी सेवाएं प्रदान की है। राजनियक के रूप में हांगकांग में काम करने के बाद साल 2016 में गोखले चीन में भारत के राजदूत बने।

    गोखले ने जनवरी 2016 से अक्टूबर 2017 तक चीन में भारत के राजदूत के रूप में कार्य किया। इस समय अवधि के दौरान भारत व चीन के बीच में कई बार टकराव का माहौल पैदा हुआ था जिसमें सबसे प्रमुख डोकलाम विवाद था।

    डोकलाम विवाद को प्रमुखता से विजय केशव गोखले ने संभाला और भारत की मजबूती को वैश्विक स्तर पर दिखाया। जानकारी के मुताबिक गोखले ने अपनी कुशलता से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और एस जयशंकर के साथ समन्वय स्थापित करके डोकलाम गतिरोध को समाप्त किया। एस जयशंकर के बाद विजय केशव गोखले सबसे वरिष्ठ राजनियक है।

    अन्य देशों में गोखले का राजनियक अनुभव

    चीन के अलावा गोखले ने साल 2010 और 2013 के बीच मलेशिया में भारत के राजदूत के रूप में भी काम किया है। इसके बाद सुभाष सिंह के स्थान पर गोखले ने जर्मनी में जनवरी 2016 तक भारत के शीर्ष राजनयिक के रूप में अपनी सेवाएं दी।

    गोखले ने उप सचिव (वित्त), निदेशक (चीन और पूर्वी एशिया) और संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया) के रूप में अपनी सेवाएं दी है।