रविवार, फ़रवरी 23, 2020

रोहिंग्या संकट के बीच अमेरिकी विदेश मंत्री टिलरसन जाएंगे म्यांमार

Must Read

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और...

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

म्यांमार में अभी भी रोहिंग्या मुसलमानों के ऊपर अत्याचार किए जा रहे है। बड़ी संख्या में म्यांमार से रोहिंम्या लोगों का बांग्लादेश में पलायन अभी भी जारी है। इसी बीच अब अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के म्यांमार का दौरा करने की योजना है। ( रोहिंग्या मुस्लिम कौन हैं? )

जानकारी के अनुसार रेक्स टिलरसन म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की और म्यांमार के सेना प्रमुख मिन आंग हलांग से रोहिंग्या मुद्दे पर चर्चा करेंगे। अमेरिका लगातार म्यांमार की तरफ से रोंहिग्या मुसलमानों पर किए जा रहे अत्याचारों को लेकर उसे चेतावनी दे रहा है।

म्यांमार के रखाइन प्रांत में अभी भी सेना की तरफ से रोहिंग्या पर जारी हिंसा खत्म नहीं हुई है। इसलिए अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स म्यांमार में जाकर रोहिंग्या मुद्दे पर बातचीत करेंगे। आंग सान सू की नोबेल पुरस्कार विजेता भी रह चुकी है।

जब से रोहिंग्या मुसलमानों पर अत्याचार किए जाने का मुद्दा उठा है तब से ही अमेरिका ने इसका व्यापक स्तर पर विरोध किया है। गौरतलब है कि म्यांमार से करीब 6 लाख से अधिक रोहिंग्या मुसलमानों को अपना देश छोडने को मजबूर होना पड़ा है जो कि बांग्लादेश के शरणार्थी शिविरों में रहने को मजबूर है।

रेक्स टिलरसन म्यांमार पर बनाएंगे दबाव

संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी रोहिंग्या मुद्दे पर चिंता जाहिर की है। रेक्स टिलरसन के म्यांमार की सेना व नेताओं के साथ मुलाकात के बाद म्यांमार सरकार पर दबाव बनाया जा सकता है। साथ ही म्यांमार से रोहिंग्या को वापस बुलाने की मांग भी की जाएगी।

अमेरिका के साथ ही संयुक्त राष्ट्र ने भी म्यांमार को रोहिंग्या पर हिंसा खत्म करने, इन्हें वापस बुलाने व सुरक्षा देने की अपील की थी। म्यांमार के रखाइन प्रांत में बौद्ध धर्म की बहुलता है। जबकि यहां पर रोंहिग्या मुसलमान अल्पसंख्यक है।

सेना की तरफ से ढाई महीनों में की गई कार्रवाई में रोहिंग्या मुसलमानों के करीब हजारों की संख्या में घर जला दिए गए व बड़ी संख्या में लोगों को बेहरमी से मारा गया। जिसकी वजह से रोहिंग्या को बांग्लादेश में जाकर शरण लेनी पड़ी। इसे दुनिया में सबसे बड़ा पलायन माना जा रहा है।

संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार सरकार के इस कदम की कड़ी निंदा करते हुए इसे जातीय सफाई कहा। अमेरिका का मानना है कि शरणार्थी शिविरों में संकट खत्म नहीं हो रहा है। यहां पर हजारों की संख्या में बच्चे कुपोषण के शिकार है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)...

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की आगामी यात्रा की तैयारियों पर...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही तैयारी भारतीयों की "गुलाम मानसिकता"...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -