Sun. May 19th, 2024
    असदुद्दीन ओवैसी

    मुस्लिम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने आज कहा कि म्यांमार में मुस्लिमों के अलावा हिन्दुओं पर भी अत्याचार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को हिन्दू परिवारों को बचाना चाहिए।

    दरअसल देश में रोहिंग्या मुस्लिमों को शरण देने पर असमंजस बना हुआ है। ऐसे में भारत में अपने आप को मुस्लिमों का नेता कहने वाले असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट करके कहा कि म्यांमार में 86 हिन्दू मारे जा चुके हैं। इसके अलावा करीबन 200 हिन्दुओं को जान बचाकर भागना पड़ा। इसपर ओवैसी ने केंद्र सरकार को निशाना बनाते हुए कहा है कि कम से कम आपको हिन्दुओं को तो बचा लेना चाहिए।

    कुछ दिन पहले केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा था कि भारत से रोहिंग्या मुस्लिमों को निकलना चाहिए। उनके यहाँ रहने से देश की आंतरिक सुरक्षा को खतरा है। भारत में इस समय 40000 से ज्यादा रोहिंग्या मुस्लिम अवैध रूप से रह रहे हैं।

    इसके बाद संयुक्त राष्ट्र ने भी भारत पर तंज कस्ते हुए कहा था कि भारत को रोहिंग्या मुस्लिमों को शरण देनी चाहिए। इसपर भारत की और से कहा गया था कि रोहिंग्या मुस्लिमों का भारत में रहना कानून के नियमों के खिलाफ है। ऐसे में भारत सिर्फ नियमों का पालन कर रहा है।

    भारत में अवैध रूप से रह रहे मुस्लिम मुख्यतः जम्मु कश्मीर, दिल्ली, हैदराबाद और पश्चिम बंगाल में रह रहे हैं। सूत्रों के हवाले से पता चला था कि इनमे से कुछ लोग लश्कर के आतंकियों के संपर्क में भी है। ऐसे में भारत के लिए देश की सुरक्षा का सवाल खड़ा हो गया है।

    और पढ़ें : रोहिंग्या मुस्लिम : मानवता और राष्ट्रीय सुरक्षा के बीच किसे चुनेगा भारत 

    देश में अन्य मुसलमानों ने भी रोहिंग्या मुस्लिममम को भारत में रहने देने की बात कही है। इसके अलावा कुछ मौलवियों ने मुस्लिम देश जैसे सऊदी अरब आदि से भी गुजारिश की है कि वे इन रोहिंग्या मुस्लिमों की मदद करें। सऊदी अरब को लिखे एक पात्र में कहा गया कि विश्व में मुस्लिम समुदाय पर हो रहे अत्याचारों को कैसे बर्दास्त किया जा सकता है।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।