Thu. Oct 6th, 2022
    evm

    नई दिल्ली, 23 मई (आईएएनएस)| राजस्थान में मोदी लहर साफ रूप से दिखाई पड़ रहा है। मतगणना रुझानों में भारतीय जनता पार्टी (भजपा) 25 में से 24 लोकसभा सीटों पर आगे चल रही है।

    यह राहुल गांधी की अगुवाई वाली कांग्रेस के लिए एक बड़ा झटका है, जो कुछ महीने पहले ही राज्य में सरकार बनाने में कामयाब रही थी, जिससे संसदीय चुनावों में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद जगी थी।

    दोपहर एक बजे तक चुनाव आयोग (ईसी) द्वारा दिखाए गए रुझानों के अनुसार, 24 सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं, जबकि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) का उम्मीदवार एक सीट पर आगे है। आरएलपी भाजपा की सहयोगी है।

    नवीनतम रुझान रेगिस्तानी राज्य में भाजपा की शानदार जीत के संकेत दे रहे हैं और 2014 की पुनरावृत्ति दर्शा रहे हैं जब मोदी लहर में सभी 25 सीटें भाजपा के खाते में गई थीं।

    2014 के आम चुनावों के बाद, कांग्रेस पिछले साल हुए उपचुनावों में दो सीटें-अजमेर और अलवर जीतने में कामयाब रही थी। लेकिन, मौजूदा रुझान दर्शा रहे हैं कि कांग्रेस का इन दोनों सीटों पर भी पकड़ बना पाना मुश्किल है।

    भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने राजस्थान की भिलवाड़ा संसदीय सीट से जीत दर्ज कर ली है।

    राज्यवर्धन सिंह राठौड़, कैलाश चौधरी आगे

    मतगणना के रुझानों में गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों में से 24 पर आगे चल रही है, जबकि उसकी सहयोगी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) एक सीट पर आगे है।

    कांग्रेस सभी सीटों पर पीछे चल रही है।

    भाजपा जोधपुर में आगे है, जहां केंद्रीय राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव को पीछे छोड़ते हुए 68,261 वोटों से आगे हैं।

    जयपुर ग्रामीण से केंद्रीय राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ कांग्रेस उम्मीदवार कृष्णा पूनिया के मुकाबले 91,493 वोटों से आगे चल रहे हैं।

    राठौड़ ने मीडिया को बताया, “राजस्थान में, हम सभी सीटों पर आगे चल रहे हैं और इसका श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जाता है। पिछले पांच वर्षो में, हम सभी ने उनके नेतृत्व में कड़ी मेहनत की और मतदाताओं ने हम पर भरोसा किया।”

    बाड़मेर में, भाजपा के कैलाश चौधरी 47,750 वोटों से आगे चल रहे हैं, उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार मानवेंद्र सिंह को पीछे छोड़ दिया, जो भाजपा के दिग्गज नेता जसवंत सिंह के बेटे हैं। 2018 के राज्य विधानसभा चुनाव से पहले मानवेंद्र कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

    कांग्रेस प्रदेश कांग्रेस कमेटी की उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा ने कहा कि ये शुरूआती दौर हैं। मतगणना के सभी दौर खत्म होने तक प्रतीक्षा करें।

    25 सीटों के लिए वोटों की गिनती सुबह आठ बजे से शुरू हुई। राज्य में संसदीय चुनाव 29 अप्रैल और छह मई को दो चरणों में हुए थे।

    चुनावों के लिए मतगणना शुरू

    राजस्थान में कड़ी सुरक्षा के बीच गुरुवार को 25 लोकसभा सीटों के लिए मतगणना शुरू हो गई है।

    राज्य में संसदीय चुनाव 29 अप्रैल और छह मई को दो चरणों में हुए थे।

    वोट केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ सहित कई नामचीन उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे।

    2014 के चुनावों में, भारतीय जनता पार्टी ने सभी सीटें जीती थीं।

    13 सीटों के लिए 29 अप्रैल को हुए पहले चरण के मतदान में 68.22 प्रतिशत मतदान हुआ था, जबकि दूसरे चरण में छह मई को 12 सीटों पर 63.78 प्रतिशत मतदान हुआ था।

    कुल मिलाकर 66.12 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया जो पिछले 67 वर्षों में सबसे अधिक रहा।

    2014 में 63.10 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.