Thu. Feb 22nd, 2024
    "यूक्रेन में जारी रखेंगे लड़ाई, नहीं करेंगे समझौता": पुतिन का फ्रांस के राष्ट्रपति को जवाब

    रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन के साथ हुयी वार्तालाप के रीडआउट के अनुसार कहा, “रूस राष्ट्रवादी सशस्त्र समूहों के आतंकवादियों के खिलाफ टस से मस ना होने वाली लड़ाई को जारी रखने का इरादा रखता है।”

    रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार को यूक्रेन पर अपने आक्रमण में कोई कसर नहीं छोड़ने की कसम खाई, यहां तक ​​​​कि युद्धविराम वार्ता के लिए मिले दोनों पक्ष में कोई सुलह नहीं हो पायी है जबकि कीव ने टूटे हुए शहरों तक राहत आपूर्ति पहुँचाने के लिए अपील की है।। चूँकि युद्ध अपने दूसरे सप्ताह में पहुँच गया है और रूसी सेना ने प्रमुख यूक्रेनी शहर पर फ़तेह हासिल कर ली है जिससे पुतिन शत्रुता समाप्त करने के विचार में बिलकुल नहीं है।

    गौरतलब है कि सोमवार को हुयी पहले दौर की वार्ता में यूक्रैन के हाथ कोई सफलता नहीं लगी है और वहीँ दूसरी ओर कीव का कहना है कि वह किसी भी रूसी “अल्टीमेटम” को स्वीकार नहीं करेगा।

    हालांकि, पुतिन ने बताया कि वार्ता प्रक्रिया को धीमा करने के किसी भी कोशिश से “हमारी बातचीत की स्थिति में कीव पर केवल अतिरिक्त मांगें पैदा होंगी”।

    वहीं मैक्रोन ने अपनी चिंता जताते हुए कहा है कि उन्हें डर है कि संघर्ष में “इससे भी बुरा होगा” और एक सहयोगी के तौर पर वें पुतिन के “झूठ” की निंदा करते है।

    आक्रमण, अब अपने आठवें दिन में प्रवेश कर चूका है जिसने शरणार्थी पलायन कि गंभीर समस्या को पैदा कर दिया है और रूस पर वित्तीय संकट आने कि कगार पर है ।

    संयुक्त राष्ट्र ने कथित युद्ध अपराधों की जांच करना शुरू कर दी है, क्योंकि रूसी सेना ने यूक्रेन के शहरों में भारी गोलाबारी और मिसाइलों से बमबारी की, जिससे यूक्रेन के नागरिकों को अपनी जान बचाने के लिए तहखाने में जाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

    यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने एक वीडियो बयान जारी करते हुए कहा, “हम हर घर, हर गली, हर शहर को बहाल करेंगे और हम रूस से कहेंगे: ‘क्षतिपूर्ति’ शब्द सीखें।”

    उन्होंने अपने बयां में यह भी कहा, “आपने हमारे राज्य के खिलाफ, हर यूक्रेनी के खिलाफ, पूरी तरह से जो कुछ भी किया, उसके लिए आप हमें प्रतिपूर्ति करेंगे।”

    ओर पढ़ें:
    रूस यूक्रेन युद्ध: संयुक्त राष्ट्र महासभा (UN General Assembly) की आपात बैठक में रूस के ख़िलाफ़ जमकर वोटिंग, भारत और चीन ने फिर से नहीं लिया वोटिंग में हिस्सा

    यूक्रेन के राष्ट्रपति ने यूरोपीय संघ की सदस्यता पाने के लिए अर्जी पर हस्ताक्षर किये

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *