बुधवार, जनवरी 22, 2020

यरूशलमः संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के खिलाफ जाना भारत की सबसे बड़ी गलती – सुब्रह्म्ण्यम् स्वामी 

Must Read

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप)...

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को यरूशलम मामले में संयुक्त राष्ट्र महासभा से करारा झटका मिला है। महासभा में यरूशलम को इजरायल की राजधानी नहीं मानने वाले प्रस्ताव के लिए मतदान किया गया। इस प्रस्ताव के समर्थन में भारत समेत कुल 128 देशों ने मतदान किया और इस प्रस्ताव के खिलाफ में कुल 9 वोट पड़े। 35 देशों ने मतदान की प्रक्रिया से खुद को अलग रखा।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी 14 देशों ने इस प्रस्ताव को समर्थन दिया था। लेकिन उस समय अकेले पड़े अमेरिका ने अपनी वीटो पावर का इस्तेमाल कर लिया था। लेकिन संयुक्त राष्ट्र महासभा में वीटो पावर नहीं है। ऐसे में अमेरिका को यरूशलम मुद्दे पर करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है।

अमेरिका ने एक दिन पहले धमकी दी थी कि अगर किसी भी देश ने अमेरिका के खिलाफ मतदान किया तो उसे आर्थिक सहायता रोक दी जाएगी ।

भारत ने भी यरूशलम मामले पर अमेरिका के खिलाफ मतदान किया है। कुल 128 देशों ने प्रस्ताव का समर्थन करके इस बात की पुष्टि की है कि यरूशलम की अंतिम स्थिति का फैसला इजरायल और फिलीस्तीनियों के बीच सीधी वार्ता में ही किया जाना चाहिए।

भाजपा सांसद ने अमेरिका के खिलाफ वोट देने का किया विरोध

बीजेपी सासंद सुब्रह्म्ण्यम् स्वामी ने भारत द्वारा अमेरिका के फैसल के खिलाफ वोट करने की निंदा की है। स्वामी ने एक बार फिर पार्टी लाइन के खिलाफ जाकर भारत के इस कदम को गलती भरा बताया है।

बीजेपी सांसद ने कहा कि यरूशलम मुद्दे पर अमेरिका के खिलाफ मतदान करके भारत ने एक बड़ी गलती की है। बीजेपी सासंद सुब्रह्म्ण्यम्  स्वामी ने इस बारे में ट्विटर पर पोस्ट किया है जिसका बड़ी संख्या में लोग समर्थन भी कर रहे है।

गौरतलब है कि सासंद सुब्रह्म्ण्यम्  स्वामी लंबे समय से इजरायल के समर्थक रहे है। भारत ने अपने राष्ट्रीय हित के खिलाफ मतदान किया है क्योंकि फिलीस्तीन ने कभी भी कश्मीर विवाद पर भारत का समर्थन नहीं किया है।

जबकि इजरायल ने हमेशा से ही कश्मीर विवाद पर भारत का समर्थन किया है। फिलीस्तीन कभी भी हमारा नहीं हुआ है। ऐसा कहकर स्वामी ने यरूशलम मामले पर भारत के इस कदम का विरोध किया है। इससे पहले स्वामी ने ट्रम्प के फैसले का स्वागत किया था। स्वामी ने भारत को चेताया है कि इस कदम से भविष्य में नुकसान उठाने पड़ सकते है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

जल संरक्षण का महत्व

जल संरक्षण क्यों जरूरी है? स्वच्छ, ताजा पानी एक सीमित संसाधन है। दुनिया में हो रहे सभी गंभीर सूखे के...

भारत में रियलमी करेगा स्नैपड्रैगन की 720जी चिप के साथ फोन लॉन्च

चीन की स्मार्टफोन निर्माता रियलमी के सीईओ माधव शेठ ने मंगलवार को भारत में नए स्नैपड्रैगन 720जी एसओजी (सिस्टम-ऑन-चिप) के साथ स्मार्टफोन लॉन्च करने...

झारखंड : नई सरकार के शपथ ग्रहण के 24 दिनों बाद भी नहीं हुआ मंत्रिमंडल विस्तार, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

झारखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण 29 दिसंबर को हुआ था। अबतक 24 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार...

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मनाया 48 वां राज्य दिवस

त्रिपुरा, मणिपुर और मेघालय ने मंगलवार को अलग-अलग अपना 48वां राज्य दिवस मनाया। इस मौके पर कई रंगा-रंग कार्यक्रम पेश किए गए। राष्ट्रपति रामनाथ...

महाराष्ट्र : भाजपा ने राकांपा के मंत्री के बयान पर आपत्ति जताई, बताया हिंदू विरोधी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अवध के बायन पर मंगलवार को कड़ी आपत्ति...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -