गुरूवार, अक्टूबर 24, 2019

मोदी सरकार चार लाख से अधिक रिक्त सरकारी पदों पर नहीं कर रही भर्तियां

Must Read

पेट्रोल, डीजल के दाम 1 दिन की स्थिरता के बाद फिर घटे

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। पेट्रोल और डीजल के दाम में गुरुवार को फिर गिरावट दर्ज की गई। एक...

उप्र में होगा 109 उम्मींदवारों के भाग्य का फैसला

लखनऊ, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में विधानसभा की 11 सीटों पर हुए उपचुनाव में 109 प्रत्याशियों के भाग्य...

विधानसभा चुनाव : महाराष्ट्र, हरियाणा में भाजपा को बढ़त

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव की गुरुवार को हो रही मतगणना...

भारत में इस समय सबसे बड़ी समस्या रोजगार की है। केन्द्र व राज्य सरकार रोजगार देने के वादे तो कर रही है लेकिन युवाओं को रोजगार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है बेरोजगारी बढ़ गई है। आंकडो के मुताबिक साल 2016 में नई नौकरियों का सृजन पिछले आठ साल की तुलना में बेहद कम हो गया है।

सरकारी विभागों में कुल 4 लाख से अधिक नौकरियां रिक्त पड़ी है। लेकिन सरकार इन पर भर्ती नहीं कर रही है और आंखे मूंद कर बैठी हुई है। मोदी सरकार निजी कंपनियों को नौकरी पैदा करने में निवेश लगाने के लिए तो जोर दे रही है लेकिन खुद खाली पड़े सरकारी पदों पर भर्तियां नहीं निकाल रही है।

संसद में 7 फरवरी को बताया गया कि विभिन्न सरकारी विभागों में मार्च 2016 तक 412752 पद रिक्त है। विभिन्न केन्द्रीय सरकारी विभागों की बात की जाए तो 3.6 मिलियन नौकरियों में से 11 प्रतिशत पद रिक्त है।

राज्यसभा में एक प्रश्न का जवाब देते हुए श्रम और रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने कहा कि बड़ी संख्या में रिक्त पड़े पदों को भरने के लिए निर्देश जारी किए गए है लेकिन कोई निश्चित समय सीमा नहीं बताई है।

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन ने जताई चिंता

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन ने भारत में बेरोजगारी बढ़ने को लेकर कड़ी चिंता जाहिर की है। इसकी रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में भारत में बेरोजगारी 18.3 मिलियन थी। ये साल 2018 में 18.6 और 2019 में 18.9 हो जाएगी।

संसद में मंत्री ने बताया कि सितंबर 2015 तक भारत के रोज़गार कार्यालयों में करीब 44.9 मिलियन लोग नौकरी चाहने के लिए पंजीकृत थे। मोदी सरकार ने चुनावों से पहले 10 लाख नौकरियां देने का वादा किया था। लेकिन अब अगले साल वापिस से चुनाव आने वाले है और ये वादा बेरोजगारों के लिए वादा बनकर ही रह गया है।

हर साल 17 मिलियन लोग नौकरी करने के लिए तैयार होते है लेकिन केवल 5.5 मिलियन नौकरियों का निर्माण ही हो पाता है। वहीं सरकारी विभागो में तो इतनी रिक्तियां होने के बावजूद भी सरकारी संगठन भर्तियां नहीं कर रहे है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

पेट्रोल, डीजल के दाम 1 दिन की स्थिरता के बाद फिर घटे

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। पेट्रोल और डीजल के दाम में गुरुवार को फिर गिरावट दर्ज की गई। एक...

उप्र में होगा 109 उम्मींदवारों के भाग्य का फैसला

लखनऊ, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में विधानसभा की 11 सीटों पर हुए उपचुनाव में 109 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला आज होना है।मुख्य...

विधानसभा चुनाव : महाराष्ट्र, हरियाणा में भाजपा को बढ़त

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव की गुरुवार को हो रही मतगणना में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)...

दिल्ली : कानून का चाबुक चला तो दमे के मरीज-बुजुर्ग भी रौशन कर लेंगे दिवाली (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

नई दिल्ली, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। कानून और पुलिस का चाबुक अगर कायदे से चल गया तो राष्ट्रीय राजधानी में रह रहे दमे के मरीज...

उप्र : उपचुनाव के नतीजे विपक्षियों के भविष्य का करेंगे फैसला

लखनऊ , 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में 11 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव के नतीजे समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -