Wed. Oct 5th, 2022

    पश्चिम बंगाल में चल रहे विधानसभा चुनाव के बीच निर्वाचन आयोग का एक बड़ा फैसला आया है. बंगाल के विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के चलते राजनीतिक अभियानों में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच जमकर टक्कर हो रही है। इसी बीच भारत के निर्वाचन आयोग ने तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी “दीदी” पर 24 घंटे का अभियान प्रतिबंध लगा दिया है। यह प्रतिबंध अप्रैल 12 शाम 8 बजे से अप्रैल 13 शाम 8 बजे तक रहेगा। निर्वाचन आयोग ने अत्यधिक अपमानजनक और भड़काऊ टिप्पणी करने और कानून व्यवस्था की टूटने की आशंका के साथ-साथ चुनावी प्रक्रिया पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने के कारण ममता बनर्जी पर यह प्रतिबंध लगाया है।

    चुनाव इतिहास में यह केवल दूसरी बार है जब किसी मौजूदा मुख्यमंत्री को एक अभियान प्रतिबंध का सामना करना पड़ रहा है, हालांकि मुख्यमंत्रियों को अक्सर चुनावी कानून के उल्लंघन के लिए पैनल द्वारा चेतावनी दी जाती रही है और कई दफा रोका भी गया है। पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 2019 लोकसभा चुनाव में भड़काऊ भाषण देने की वजह से 72 घंटों के लिए अभियान प्रतिबंध का सामना करना पड़ा था।

    निर्वाचन आयोग की कार्यवाही कूचबिहार हिंसा की घटना के 2 दिन बाद सामने आई है, जहां ऑन ड्यूटी सीआईएसएफ कर्मियों द्वारा आत्मरक्षा में चार लोगों की मौत का मामला सामने आया था।

    ममता बनर्जी को इस महीने निर्वाचन आयोग ने दो अलग-अलग भाषणों के लिए दो नोटिस दिए है। पहला दीदी के 7 अप्रैल के भाषण में धर्म की राजनीति करने के लिए. जिसमें बनर्जी ने बचाव किया है कि उन्होंने मतदाताओं को धार्मिक आधार पर प्रभावित करने के लिए नहीं कहा और इसके बजाय धार्मिक सद्भाव बताया।

    दूसरा उनके 9 अप्रैल के भाषण में जहां उन्होंने कथित तौर पर महिलाओं और उनके समर्थकों का घेराव करने और सीएपीएफ कर्मियों का सामना करने के लिए उकसाया था। वही दीदी ने निर्वाचन आयोग को दिए गए अपने जवाब में तर्क दिया है कि उन्होंने केवल घेराओ द्वारा लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने के लिए कहा अगर किसी ने भी उनके वोट देने के अधिकार में कोई बाधा डाली तो, सीएपीएफ सहित।

    निर्वाचन आयोग ने दीदी को दिए गए नोटिस में यह कहा की इस तरह के “अतरंगी बयान” अविश्वास पैदा कर सकते हो और गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

    “असल में ममता बनर्जी कोई कमी नहीं छोड़ रही है यह बताने में की उनके बीच गहरी साजिश हुई है जो चुनाव की प्रक्रिया समाप्त होने के बाद भी बहुत से गंभीर परिणाम छोड़ सकती है” – निर्वाचन आयोग ने ममता बनर्जी को अपने हड़काते हुए 9 अप्रैल के नोटिस में कहा।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.