रविवार, अप्रैल 5, 2020

भारत से व्यापार के लिए अब पाक पर निर्भर नहीं – अफगानिस्तान

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...

भारत से भेजा गया गेहूं का पहला शिपमेंट शनिवार को ईरान के चाबहार बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान पहुंच गया है। इस पर अफगानिस्तान के अधिकारियों ने कहा है कि उनका देश अब पाकिस्तान के कराची बंदरगाह पर निर्भर नहीं है।

इस शिपमेंट को अफगानिस्तान भेजने में खास बात यह है कि अबकी बार पाकिस्तान के जरिए इसे नहीं पहुंचाया गया है। बल्कि इस बार भारत से गेहूं का शिपमेंट ईरान के चाबहार बंदरगाह के जरिए पहुंचा है। जिस पर अफगान अधिकारियों ने खुशी जताई है।

अफगानिस्तान के वरिष्ठ अधिकारियों और काबुल में भारतीय राजदूत मनप्रीत वोहरा ने इस नए व्यापार मार्ग का उद्घाटन करने के लिए एक समारोह में भाग लिया। इस दौरान अफगान अधिकारियों की तरफ से कहा गया कि अब वो पाकिस्तान पर व्यापार मार्गों के लिए पूरी तरह निर्भर नहीं है।

पाक के कराची बंदरगाह पर निर्भर नहीं-अफगान

ईरान के चाबहार बंदरगाह के होने से अफगानिस्तान अब पाकिस्तान के कराची बंदरगाह पर निर्भर नहीं रहेगा। गौरतलब है कि चाबहार बंदरगाह से पहले पाकिस्तान के कराची बंदरगाह के जरिए भारत से अफगानिस्तान में शिपमेंट भेजा जाता था।

एक अफगान अधिकारी ने कहा कि ईऱान का नया चाबहार बंदरगाह अफगानिस्तान, ईरान और भारत में अरबों डॉलर का राजस्व लाएगा और साथ ही हजारों नौकरियों के अवसर पैदा होंगे। निमरोज़-डेलाराम सड़क मार्ग के जरिए यह ईरान के चाबहार बंदरगाह पर जाता है।

वहां के कृषि मंत्री नासीर अहमद दुरानी ने कहा कि चाबहार बंदरगाह की वजह से भारत, ईरान व अफगानिस्तान के बीच में व्यापार संबंधों को बढ़ावा व मजबूती मिलेगी। वहीं भारतीय राजदूत वोहरा ने कहा कि चाबहार बंदरगाह से इस क्षेत्र के देशों के बीच रास्ता आसान व छोटा हुआ है।

गौरतलब है कि 29 अक्टूबर को भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अफगानिस्तान के विदेश मंत्री सलाहाउद्दीन रब्बानी और ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शिपमेंट भेजने की शुरुआत की थी।

अगले कुछ महीनों में 6 और गेहूं के शिपमेंट अफगानिस्तान को भेजे जाएंगे। अफगानिस्तान को पहले पाकिस्तान के सड़क मार्ग के जरिए व्यापारिक सामान मंगवाना पड़ता था। इसलिए ईरान यात्रा के दौरान भारतीय पीएम नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में चाबहार पोर्ट का त्रिपक्षीय समझौता हुआ था।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -