Thu. Dec 8th, 2022

    एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने क्षेत्रीय दलों के आय-व्यय के विश्लेषण को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है जिनमे उन्होंने देश के 47 क्षेत्रीय दलों के आय-व्यय के बारे में एक रिपोर्ट बनाई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक द्रविड़ मुनेत्र कड़गम(डीएमके) क्षेत्रीय दलों में सबसे अमीर पार्टी है। रिपोर्ट के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2015-16 में डीएमके की कुल आय 77.67 करोड़ रूपये हुई थी।

    डीएमके तमिलनाडु की मुख्य विपक्ष की पार्टी है, वही तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी एआईडीएमके (ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम) दूसरे स्थान पर है। एआईडीएमके की कुल आय 54.93 करोड़ रूपये थी। तीसरे स्थान पर आँध्रप्रदेश की सत्ताधारी पार्टी टीडीपी(तेलगु देशम पार्टी) है जिसकी आय 15.97 करोड़ है।

    एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक इस वर्ष कुल 47 में से 32 क्षेत्रीय दलों ने अपने आय-व्यय का ब्यौरा सौंपा है। एडीआर को 15 दलों ने अपना ऑडिट रिपोर्ट नहीं सौंपा है जिसमे उत्तरप्रदेश की विपक्ष पार्टी समाजवादी पार्टी, बहुजंन समाजवादी पार्टी, बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी(राष्ट्रीय जनता दल) समेत जेकेएनसी, आईएनएलडी, एआईयूडीएफ, एजेएसयू, और एमजेपी सम्मिलित है।

    एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा खर्च करने वाली पार्टी में जेडीयू, टीडीपी और आप है। बिहार की सत्ताधारी पार्टी जेडीयू(जनता दल यूनाइटेड) ने 2015-16 में कुल 23.46 करोड़ रूपये खर्च किया था। आँध्रप्रदेश की सत्ताधारी पार्टी टीडीपी(तेलगु देशम पार्टी) ने 13.10 करोड़ रूपये खर्च किये थे। वहीं दिल्ली की सत्ता पर बैठी आम आदमी पार्टी ने 11.09 करोड़ रूपये खर्च किये थे।

     

    दूसरी ओर राष्ट्रीय दलों की बात की जाये तो एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा देश की सबसे अमीर पार्टी है, भाजपा के 2015-16 की आय 893.88 करोड़ है। दूसरे स्थान पर विपक्ष की पार्टी कांग्रेस है जिसकी आय 758.79 करोड़ है।