Sat. Jul 13th, 2024
    हाई स्पीड ट्रेन नेटवर्क

    भारतीय रेलवे अपनी एक महत्वाकांक्षी परियोजना के तहत देश के चार महानगरों दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता को हाई स्पीड ट्रेन नेटवर्क से जोड़ने जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस योजना के तहत अब दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई 160 किमी. प्रतिघंटे की रफ्तार वाले ट्रेन नेटवर्क से जुड़ जाएंगे। मौजूदा समय में इस नेटवर्क पर ट्रेनों की औसत स्पीड 88-90 किमी. प्रति घंटा है। रेलवे इस हाई स्पीड नेटवर्क की शुरूआत देश में 75वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 15 अगस्त 2022 में करेगा।

    गोल्डन चतुर्भुज नाम की इस परियोजना के तहत उपरोक्त चार प्रमुख शहरों को 10,000 किलोमीटर लंबे हाई स्पीड ट्रेन नेटवर्क से जोड़ने पर विचार किया जा रहा है। भारतीय रेलवे पहले से ही दिल्ली-मुंबई, दिल्ली-हावड़ा, दिल्ली-चेन्नई, चेन्नई-हावड़ा, चेन्नई-मुंबई और हावड़ा-मुंबई को हाई स्पीड ट्रेन नेटवर्क से जोड़ने वाली इस बड़ी परियोजना का खाका तैयार करने में लगी हुई है।

    रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि, हम इस विशाल परियाजना के खाके को अंतिम रूप देने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि यह परियोजना 15 अगस्त 2022 को लांच की जाएगी। अधिकारी ने बताया कि नीति आयोग इस परियोजना का मूल्यांकन कर चुका है, बस इसे कैबिनेट की मंजूरी मिलनी बाकी है।

    रिपोर्ट के मुताबिक, 2017-2018 के बजट में दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-हावड़ा रूट को पहले से ही शामिल किया गया है, इसके लिए क्रमश: 11,189 करोड़ रुपए और 6,975 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान लगाया गया है। गोल्डन चतुर्भुज परियोजना के शेष मार्गों को भी 2018-19 बजट में शामिल किए जाने की प्रक्रिया चल रही है।

    रिर्पोट्स के अनुसार, इस विशाल और महत्वाकांक्षी परियोजना को पूरा करने के लिए कुल 36,000 करोड़ रुपये का बजट की आवश्यकता होगी। एजेंसी रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे बोर्ड इस साल के 31 दिसंबर तक शेष रूटों के विस्तृत अनुमानित लागत को अंतिम रूप दे सकता है।