रविवार, अप्रैल 5, 2020

बलोच प्रतिनिधिमंडल ने नरसंहार रोकने के लिए कनाडा से मांगी मदद

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में जारी अत्याचारों, हिंसा व नरसंहारों को रोकने के लिए अब यहां के लोगों ने कनाडा सरकार से मदद मांगी है। प्रोफेसर नायरा कादरी बलोच के नेतृत्व में एक बलोच प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार को कनाडा के संसद सदस्य रॉन मैककिन्नन से मुलाकात की।

इस दौरान बलोच प्रतिनिधिमंडल ने बलूचिस्तान में जारी नरसंहार को रोकने के लिए कनाडा सरकार से मदद करने का आग्रह किया। इन्होंने बलूचिस्तान में जारी वर्तमान स्थिति से भी उन्हें अवगत कराया।

गौरतलब है कि बलूचिस्तान पर पाक सेना की तरफ से लगातार हिंसा व अत्याचार किए जा रहे है। बलूच महिलाओं, बच्चों व लोगों को शिकार बनाया जा रहा है।

बलोच के लोगों को काफी समय से धार्मिक और जातीय आतंकवाद का सामना करना पड़ रहा है। पाक सेना की तरफ से यहां के लोगों के साथ अत्याचार किए जा रहे है। लेकिन पाकिस्तान सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है।

कनाडा सरकार से मदद मांगी

बलोच प्रतिनिधिमंडल ने कनाडा के संसद सदस्य को बलूचिस्तान में चल रहे बलूच नरसंहार के बारे में बताया। इन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार द्वारा प्रायोजित धार्मिक आतंकवादी समूहों के घुसपैठ को रोकने के लिए कनाडा सरकार हमारी मदद करे व अहम भूमिका अदा करे।

बलोच के प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि बलूचिस्तान में शांति स्थापित करने के लिए यह अंतरराष्ट्रीय समुदाय की जिम्मेदारी है कि वो बलोच को वैश्विक सुरक्षा और भावना में सहयोग करे।

भारत से भी की थी मदद की अपील

हाल ही में बलोच लोगों ने भारत से भी मदद की अपील की थी। विश्व बलोच महिला फोरम ने भारत से मांग की थी कि वो नैतिक जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए बलूचिस्तान में चल रहे नरसंहार को रोकने में आगे आकर अपनी भूमिका अदा करे। इन्होंने कहा था कि भारत आगे आकर हमारी मदद करे।

बलूचिस्तान के लोगों को कई दशकों से पाक सरकार के भेदभावपूर्ण रवैये का सामना करना पड़ रहा है। बलूचिस्तान में प्राकृतिक संसाधनों को लूटा जा रहा है।

इसके अलावा बलोच लोगों के अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर रोक लगाई जा रही है। यहां के निवासी चीन-पाकिस्तान इकनोमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) का भी विरोध कर रहे है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -