Mon. May 27th, 2024
    फ्लिपकार्ट के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष सचिन बंसल की कंपनी नवी टेक्नोलॉजीज IPO से 3,350 करोड़ रुपये उठाएगी

    बीएफएसआई (बैंकिंग, वित्तीय सेवा और बीमा) पर केंद्रित फिनटेक कंपनी– नवी टेक्नोलॉजीज ने Initial Public Offering ( IPO) के माध्यम से 3,350 करोड़ रुपये जुटाने के लिए बाजार नियामक भारतीय– प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI – Security Exchange Board Of India) के साथ मसौदा कागजात दाखिल करने का खुलासा किया है।

    SEBI के  रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) के मसौदे के अनुसार, आईपीओ में कंपनी ने 100%  इक्विटी शेयर बेचने की बात कही है ।

    नवी सचिन बंसल और अंकित अग्रवाल द्वारा स्थापित एक डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म है। बंसल ने अब तक नवी टेक्नोलॉजीज में लगभग 4,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है और वह आईपीओ में अपनी हिस्सेदारी कम करने को तैयार नहीं है।

    इस विषय से परिचित सूत्रों के हवाले से पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, इनिशियल पब्लिक ऑफर इस साल जून में होगी।

    IPO के लॉन्च से पहले यह संभव है कि कंपनी 670 करोड़ रुपये तक के प्री-आईपीओ प्लेसमेंट की मांग कर सकती है। यदि ऐसी नियुक्ति स्वीकार कर ली जाती है, तो हो सकता है कि इनिशियल पब्लिक ऑफर में कंपनी काम पूंजी जुटाए ।

    आईपीओ आय:

    कंपनी निम्नलिखित तरीकों से इनिशियल पब्लिक ऑफर से प्राप्त आय का उपयोग करना चाहती है:

    • सहायक कंपनियों : नवी फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड (एनएफपीएल), नवी जनरल इंश्योरेंस लिमिटेड (एनजीआईएल) में निवेश करने के लिए ।
    • सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए।

    बुक रनिंग लीड मैनेजर्स:

    कंपनी ने आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, बोफा सिक्योरिटीज और एक्सिस कैपिटल, क्रेडिट सुइस सिक्योरिटीज (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड और एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज को पब्लिक इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर के रूप में चुना है।

    फ्लिपकार्ट छोड़ने के बाद बंसल ने बैंक ऑफ अमेरिका के पूर्व कर्मचारी अंकित अग्रवाल के साथ चार साल पहले नवी टेक्नोलॉजीज की स्थापना की थी।
    नवी टेक्नोलॉजीज एक नई फिनटेक कंपनी है, जो उधार, बीमा और म्यूचुअल फंड के क्षेत्रों में सेवाएं प्रदान करती है।

    अपनी स्थापना के बाद से, कंपनी “नवी” ब्रांड नाम के तहत व्यक्तिगत ऋण, गृह ऋण, सामान्य बीमा और म्यूचुअल फंड की पेशकश कर रही है।

    कंपनी “चैतन्य” ब्रांड के तहत पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के माध्यम से माइक्रोफाइनेंस ऋण भी प्रदान करती है।
    नवी ने इससे पहले 2019 में माइक्रोफाइनेंस उद्योग में प्रवेश करने के लिए चैतन्य इंडिया फिन क्रेडिट को 739 करोड़ रुपये में खरीदा था। चैतन्य भी यूनिवर्सल बैंकिंग लाइसेंस देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *