Wed. Oct 5th, 2022
    पद्मावती फिल्म भंसाली

    संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को बैन करने कोई मांगों को सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दिया है।

    हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में यह केस दर्ज किया गया था कि फिल्म पद्मावती लोगों के भावों को ठेस पहुंचा रही है ऐसे में इसे बैन किया जाए। इसपर सुप्रीम कोर्ट ने इस केस को खारिज कर दिया है।

    सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि सेंसर बोर्ड साड़ी चीजें देखने के बाद ही फिल्म को आगे बढ़ाता है। जब सेंसर बोर्ड को फिल्म से कोई आपत्ति नहीं है, तो अदालत इसमें क्या कर सकती है?

    आपको बता दें कि सिद्धराज चुडासमा समेत 12 लोगों ने फिल्म के खिलाफ यह कहकर मामला दर्ज किया था कि इसमें ऐतिहासिक घटनाओं को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है।

    इस सन्दर्भ में फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली ने हाल ही में सफाई देते हुए कहा था कि फिल्म को बनाते समय लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखा गया है।

    इस फिल्म से मुख्य रूप से राजस्थान के राजपूत समाज के लोग गुस्सा हैं। जाहिर है, रानी पद्मावती राजस्थान की महान राजपूत रानी के रूप में जानी जाती है, ऐसे में उनके खिलाफ कुछ भी गलत दिखाया जाए, तो राजपूतों को यह अच्छा नहीं लगेगा।

    जयपुर की राजकुमारी दिया कुमारी ने हाल ही में यह कहा था कि यदि फिल्म में कुछ गलत दिखाया गया, तो अच्छा नहीं होगा। इसके अलावा करनी सेना ने भी फिल्म और भंसाली के विरुद्ध कई विद्रोही भाषण दिए हैं।

    ऐसे में राजस्थान में इस फिल्म का रिलीज़ होना मुश्किल बताया जा रहा है।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।