दा इंडियन वायर » विदेश » पेंटागन ने की भारत की तारीफ, अफगानिस्तान का सबसे विश्वसनीय सहयोगी बताया
विदेश

पेंटागन ने की भारत की तारीफ, अफगानिस्तान का सबसे विश्वसनीय सहयोगी बताया

अमेरिका पेंटागन
पेंटागन रिपोर्ट मे कहा गया है कि अफगानिस्तान के लिए अमेरिका का उद्देश्य उसे आंतकी गतिविधियों के लिए सुरक्षित स्थान बनने से रोकना है।

भारत व अफगानिस्तान के बीच मजबूत रिश्ते की प्रशंसा पेंटागन ने भी की है। पेंटागन ने शुक्रवार को अमेरिकी कांग्रेस को अपनी रिपोर्ट “अफगानिस्तान में सुरक्षा व स्थिरता बढ़ाना” में कहा कि भारत, अफगानिस्तान का सबसे विश्वसनीय क्षेत्रीय सहयोगी व भागीदार है और इस अफगानिस्तान क्षेत्र के विकास में हमेशा सबसे बड़ा सहयोग देता है।

पेंटागन ने बताया कि नई दिल्ली ने युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में आर्थिक, चिकित्सा और नागरिकों की सहायतार्थ सेवा भेजता है। पेंटागन ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि भारत द्वारा अफगानिस्तान को दी गई मुख्य सहायता में अफगानिस्तान-भारत मैत्री बांध और अफगान संसद भवन जैसी नागरिक विकास परियोजनाएं शामिल है।

रिपोर्ट मे कहा गया है कि भारत ने अफगानिस्तान को सीमित सुरक्षा सहायता भी प्रदान की है जिसमें चार एमआई-35 वायुयान शामिल है। भारत अफगान अधिकारियों और प्रशिक्षुओं के लिए महत्वपूर्ण प्रशिक्षण के अवसर भी उपलब्ध करवाता है।

अफगानिस्तान को दी जा रही है भारत की तरफ से मदद

गौरतलब है कि हाल ही में अफगान नेशनल आर्मी की महिला कैडेट भारत में सैन्य प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है। रिपोर्ट में बताया है कि अफगानिस्तान की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे अधिक सहायता भारत ने ही की है।

अमेरिका, भारत द्वारा अफगानिस्तान को दी जा रही अतिरिक्त आर्थिक, चिकित्सा और नागरिक समर्थन का स्वागत करता है।

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अगस्त महीने में नई अफगान और दक्षिण एशिया नीति बनाई थी। उसके बाद पेंटागन की ये पहले रिपोर्ट है।

पेंटागन रिपोर्ट मे कहा गया है कि अफगानिस्तान के लिए हमारा (अमेरिका) का उद्देश्य अफगानिस्तान को आंतकी गतिविधियों के लिए सुरक्षित स्थान बनने से रोकना है। क्योंकि आतंकी यहां से अमेरिका और अन्य जगहों पर हमले की योजना बनाते है। साथ ही अफगान सरकार व अफगान सैन्य व सरकारी संस्थानों की सहायता करना शामिल है।

अफगान में अमेरिका की नई रणनीति

पेंटागन ने अपनी रिपोर्ट मे कहा है कि अमेरिका की नई रणनीति के तहत तालिबान, अलकायदा, हक्कानी नेटवर्क जैसे अन्य विद्रोही व खूंखार आतंकवादियों के खिलाफ अफगान सरकार और सुरक्षा बलों का समर्थन वह जारी रखेगा। साथ ही अफागानिस्तान में अफगान नेशनल डिफेंस एंड सिक्योरिटी फोर्स के निरंतर विकास को सहायता प्रदान करेगा।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!