Fri. Mar 1st, 2024
    पाक अधिकृत कश्मीर

    पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में इन दिनों संयुक्त कश्मीर पीपुल्स नेशनल पार्टी (यूकेपीएनपी) व यहां के निवासियों की तरफ से पाकिस्तान सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया जा रहा है। इन्होंने पाकिस्तान सरकार के खिलाफ एक मुहिम शुरू की है। जिसमे पाकिस्तानी सरकार से मांग की गई है कि वो तथाकथित आजाद कश्मीर से राजनीतिक कार्यकर्ताओं के अपहरण व हत्याओं को रोके।

    यूकेपीएनपी की तरफ से यहां के लोगों के साजिशपूर्ण अपहरण व हत्याओं के खिलाफ जगह-जगह विरोध-प्रदर्शन व सम्मेलन आयोजित किए गए। पाक अधिकृत कश्मीरियों ने रावलपिंडी में भी रैली का आयोजन किया। लोगों ने बैनरों पर कश्मीरियों पर किए जा रहे अत्याचारों के खिलाफ रोक लगाने की मांग की।

    दरअसल हाल के दिनों में पाकिस्तानी सैन्य बलों की तरफ से राजनीतिक कार्यकर्ताओं, खासकर युवाओं का अपहरण और उन पर अत्याचार किया जा रहा है। जिसके खिलाफ ही ये प्रदर्शन किया गया।

    पाकिस्तान से स्वतंत्रता के लिए नारे लगाए

    इस दौरान पाक अधिकृत कश्मीरियों ने पाकिस्तान से स्वतंत्रता के लिए नारे भी लगाए। साथ ही चीन को कब्जे किए गए इलाके छोड़ने को कहा।

    गौरतलब है कि पाक कश्मीरियों की तरफ से पहले भी इस तरह की मांग की गई है। रावलपिंडी प्रेस क्लब में एक सम्मेलन भी आयोजित किया गया जिसमें वक्ताओं ने पीओके के लोगों से संबंधित अनेक मुद्दे उठाए।

    विरोध प्रदर्शन करने वाले लोगों के बैनरों व पोस्टरों पर पाकिस्तान विरोधी नारे लिखे हुए थे। इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने पाक अधिकृत कश्मीर व गिलगित-बल्तिस्तान पर किए गए कब्जे को खत्म करने की मांग भी की। पाक कश्मीरियों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के अनुसार अपने क्षेत्र से पाकिस्तानी सेनाओं को तत्काल वापस जाने को कहा।

    गौरतलब है कि पीओके के निवासियों को कई गंभीर मुद्दों का सामना करना पड़ रहा है। यहां के लोगों का पाकिस्तानी सरकार पर आरोप लगाया जाता है कि उन्हें 1947 के बाद से पाकिस्तानी कब्जे के तहत द्वितीय श्रेणी वाले नागरिकों के रूप में माना जाता है।

    साथ ही पीओके में पाकिस्तानी सेना की तरफ से मारपीट व शोषण किया जाता है। यहां के लोगों के साथ पाकिस्तान सरकार भेदभावपूर्ण नीति अपनाती है।

    पाक अधिकृत कश्मीर को आजाद कश्मीर भी कहा जाता है। यहां पर अलग से प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति भी होता है। लेकिन मुख्य रूप से यहां पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पीओके से संबंधित सभी मामलों का प्रबंधन करते है।