Wed. Apr 24th, 2024
    सिद्धरमैया

    भारत के राज्य कर्नाटक में आज फिर से हिंदी भाषा पर हमला हुआ है। राज्य के बैंगलोर शहर में कई मेट्रो स्टेशन के सुचना बोर्ड पर हिंदी में लिखे गए शब्दों को मिटा दिया गया है। पिछले कुछ दिनों से शांत चल रहे भाषा विवाद पर आज फिर प्रदर्शन तेज हो गया है।

    आपको बता दें कर्नाटक राज्य पिछले कुछ दिनों से नए झंडे की मांग को लेकर चर्चा में है। राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने राज्य के लिए एक अलग झंडे की मांग की है। केंद्र में भाजपा सरकार ने इसपर कड़ा विरोध जताया है। इसके बाद कल खबर आयी कि बैंगलोर के कई मेट्रो स्टेशन पर हिंदी में लिखे गए संकेतों को मिटा दिया गया है।

    इसके पीछे का कारण कर्नाटक में कन्नड़ अस्मिता को हवा देना बताया जा रहा है। जाहिर है अगले साल अप्रैल में राज्य में चुनाव होने हैं, और ऐसे में कन्नड़ अस्मिता रखने वाले लोग एक अच्छा खासा वोट बैंक साबित हो सकते हैं।

    इसके अलावा अगर कर्नाटक को नए झंडे की अनुमति मिल जाती है, तो कर्नाटक जम्मू और कश्मीर के बाद दूसरा ऐसा राज्य बन जाएगा।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।