दा इंडियन वायर » मनोरंजन » पद्मावती फिल्म विवाद: 26 कट्स के साथ मानी सेंसर, लेकिन अभी भी राजपूत संगठनों का विरोध जारी
मनोरंजन समाचार

पद्मावती फिल्म विवाद: 26 कट्स के साथ मानी सेंसर, लेकिन अभी भी राजपूत संगठनों का विरोध जारी

पद्मावती फिल्म में दीपिका पादुकोण

पद्मावती फिल्म विवाद पर भंसाली के लिए एक अच्छी खबर है। तमाम विवादों और विरोधों के बाद सेंसर बोर्ड इस फिल्म को बदले हुए नाम और 26 आपत्तिजनक दृश्यों के कट्स के साथ रिलीज़ करने को मान गयी है।

बोर्ड की आपत्ति के बाद फिल्म का नाम ‘पद्मावत’ या कुछ और रखा जा सकता है। फिल्म के कुछ संवादों और एक गाने घूमर पर बॉर्ड ने अपनी आपत्ति जताई है।

फिल्म को डिस्क्लेमर में काल्पनिक बताना जरूरी

सेंसर बोर्ड ने हालंकि अपनी तरफ से फिल्म की जांच पड़ताल कर ली है लेकिन आने वाले समय में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए यह जरूरी कर दिया है कि फिल्म को काल्पनिक कथा के रूप में ही समाज में परोसा जाए।

बार्ड ने साफ़ शब्दों में यह कह दिया है कि फिल्म को डिस्क्लेमर में यह बताना जरूरी है कि यह पिक्चर काल्पनिक है। 28 दिसंबर को हुए सेंसर बोर्ड के साथ रिव्यु कमेटी की बैठक में यह सभी फैसले लिए गए। बैठक में उदयपुर के अरविंद सिंह, जयपुर यूनिवर्सिटी के डॉक्टर चंद्रमणि सिंह और प्रफेसर के.के. सिंह भी शामिल थे।

फिल्म को देखने के बाद कमेटी ने भंसाली को U/A सर्टिफिकेट के साथ पद्मावती को रिलीज़ करने की अनुमति दी है। यानी फिल्म को 12 साल से कम बच्चे अपने माता पिता के निर्देशन में देख सकते है।

फिल्म को अनुमति मिलना भले ही भंसाली के लिए नए साल का नया तोहफा है लेकिन अभी भी राहें आसान नहीं हुई है क्यूंकि सेंसर के फैसले पर अभी तक किसी भी राज्यों के मुख्यमंत्रियों और तमाम राजपूत संगठनों ने प्रतिक्रियाए नहीं दी है।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]