Sat. Feb 4th, 2023
    रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण

    निर्मला सीतारमण रविवार को पहली महिला पूर्णकालिक रक्षामंत्री बनी। राज्यसभा सांसद 58 वर्षीय सीतारमण रक्षामंत्रालय का कार्यभार सँभालने वाली दूसरी महिला है। इससे पहले इंदिरा गाँधी इस पद पर रह चुकी है। रक्षामंत्री के तौर पर उन्हें तीनो बलों के आधुनिकरण की प्रक्रिया तेज करने की चुनौती है।

    निर्मला सीतारमण का जन्म 18 अगस्त 1959 को तमिलनाडु के मदुरै में नारायण सीतारमण के घर हुआ। उन्होंने सीतालक्ष्मी रामास्वामी कॉलेज से बीए किया और 1980 में उन्होंने जवाहर लाल यूनिवर्सिटी से एमए की डिग्री पूरी की। इसके बाद इन्होने गैट फ्रेमवर्क के तहत इंडो-यूरोपियन टेक्सटाइल ट्रैड विषय में पीएचडी की डिग्री की।

    बाद में उन्होंने प्राइसवाटरहाउस कूपर्स में सीनियर मैनेजर की जॉब की। इसके बाद उन्होंने बीबीसी वर्ल्ड में भी काम किया। वो हैदराबाद स्थित प्रणव स्कूल की फ़ाउंडिंग मेंबर्स में भी शामिल है। वो नेशनल कमीशन फॉर वुमन की भी सदस्य रह चुकी है।

     

    निर्मला सीतारमण ने 2006 में बीजेपी ज्वाइन की, लेकिन साल 2014 में नरेंद्र मोदी के मंत्रालय का हिस्सा बनी। निर्मला सीतारमण के पति परकाला प्रभाकर ने सन 2000 के शुरुआत में बीजेपी की इकाई के प्रवक्ता थे। इस दौरान निर्मला सीतारमण ने भी बीजेपी में धीरे-धीरे लोकप्रियता हांसिल कर ली। इसके बाद नितिन गडकरी ने 2010 में उन्हें बीजेपी का प्रवक्ता चुना। इसके बाद प्रवक्ता के रूप में वे टीवी चैनल पर आने लगी वहां से उन्हें और अधिक लोकप्रियता हासिल हुई है। साल 2014 में निर्मला सीतारमण ने चुनावी दौरे किये और परिमाण भी सरकार के हित में आये और 26 मई को वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के लिए शपथ दिलाई गयी। और अब सरकार द्वारा किये गए कैबिनेट में फेरबदल के चलते निर्मला सीतारमण को रक्षामंत्री बनाया गया है।

     

    निर्मला सीतारमण का झुकाव शुरू से ही बीजेपी की और था। उनके पति भी बीजेपी के प्रवक्ता रह चुके है। उनके पति के परिवार की बात करे तो वे सब कांग्रेस की तरफ झुकाव वाले थे। जिनमे उनके ससुर 1970 में राज्य के मंत्री थे और उनकी सास आंध्रप्रदेश की कांग्रेस की विधायक थी।