Sat. Jan 28th, 2023
    उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल,हार्दिक पटेल

    गुजरात में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। सरकार के शपथ लेने के बाद से गुजरात सरकार में कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा है। प्रदेश में मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच मंत्रिपरिषद में विभाग बटवारे के दिन से मनमुटाव देखने को मिल रहा है। नितिन पटेल को पसंदिता मंत्रालय नहीं मिलने से वह नाराज है। बता दे कि इसके पिछली सरकार में नितिन पटेल के पास वित् मंत्रालय था और वो चाहते है कि फिर से वित् मंत्रालय उनके पास ही रहे।

    बीजेपी में हुई अनबन का फायदा विरोधी पार्टी उठाना चाहते है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच अनबन की खबरों के बाद पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने नितिन पटेल को कांग्रेस में शामिल होने का न्योता दिया है। हार्दिक ने कहा है कि अगर भारतीय जनता पार्टी नितिन पटेल को उनके सम्मान में उन्हें नीचा दिखा रही हो, तो कांग्रेस इनका स्वागत करती है।

    पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा कि नितिन पटेल के सम्मान के लिए मैं कांग्रेस से बात करूँगा। ताकि उन्हें सही जगह मिले और उनके साख पर कोई सवाल ना उठे। हार्दिक नें यह भी कहा कि अगर नितिन पटेल बीजेपी से 10 एमएलए लेकर आते है तो उनके मनमुताबिक पद के लिए मैं कांग्रेस से बात करूँगा। पाटीदार नेता हार्दिक ने यह बातें बोटाद में पाटीदार अमानत आंदोलन की बैठक से पहले कही। पाटीदारो के इस बैठक का उदेश्य कार्यप्रणाली और भविष्य को एक सही दिशा में लाने के लिए था।

    बीजेपी में अनबन का कारण

    गुजरात में बीजेपी ने लगातार छठी बार जीत दर्ज की है। बीजेपी ने 99 सीटों के साथ अपनी सरकार बनाई है। मंगलवार को हुए सरकार के शपथ समारोह के बाद से मुख्यमंत्री विजय रुपानी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच अनबन की बात सामने आ रही है। बता दे कि मनपसंदिता मंत्रालय नहीं मिलने से नितिन पटेल पार्टी से नाराज है।

    रूपाणी की अगुवाई में सरकार के शपथ लेने के बाद से तनातनी की खबरें आ रही थी। मुख्यमंत्री रूपाणी, उपमुख्यमंत्री पटेल और भाजपा अध्यक्ष जीतू वघानी विवाद को निपटाने के लिहाज से मुख्यमंत्री आवास पर बृहस्पतिवार को मिले। इस कारण पहली कैबिनेट बैठक में नए नवेले मंत्रियों को करीब 4 घंटे तक इंतजार करना पड़ा।

    नाराज है उपमुख्यमंत्री

    उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल मंत्रिपरिषद में विभाग बटवारे को लेकर बेहद नाराज है। पटेल गृह और शहरी विकास मंत्रालय चाहते थे, जो कि उन्हें ना देकर सौरभ पटेल को दे दिया गया है। साथ पटेल को 2 अहम् विभाग भी नहीं दिया गया जो कि पिछली सरकार में भी इन्ही के पास था। विभाग बटवारे को लेकर पटेल सबसे ज्यादा निराश है। इस सरकार में उन्हें सड़क एवं भवन, हेल्थ एवं फैमिली, नर्मदा, कल्पसार, चिकित्सा और शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी मिली है।

    खबरों के मुताबिक बीजेपी में दो जगहों से विरोध के सुर सुनाई दे रहे है। वडोदरा से विधायक और पूर्व मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने भी विरोध का झंडा बुलंद कर रखा है। उन्होंने मुख्यमंत्री विजय रुपानी और उपमुख्यमंत्री से उन्होंने बड़ोदरा से एक भी विधायक मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं किये जाने पर नाराजगी जताई है। राजेंद्र त्रिवेदी ने 10 विद्याको के साथ पार्टी छोड़ने की धमकी भी दे डाली है।

    लेकिन पार्टी नें अभी इस पर किसी प्रकार की प्रतिक्रिया विकट नहीं की है।