शनिवार, अप्रैल 4, 2020

टेलिकॉम जगत में एक साल में 75,000 लोगों की नौकरियां छिनी

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...

पिछले एक साल के अंदर टेलिकॉम सेक्टर के कुल कर्मचारियों का चौथाई हिस्सा यानि करीब 75,000 लोगों की नौकरियां छीन चुकी हैं। जिन लोगों की नौकारियां छिनी हैं, उनमें आॅपरेटर्स, टॉवर फर्म तथा टेलिकॉम से जुड़े विक्रेता शामिल हैं। दूर संचार उद्योग में काम करने वाले कर्मचारियों की तुलना में पिछले कुछ वर्षों में इनके वेतन में कोई सुधार नहीं किया गया। ऐसे में अब टेलिकॉम सेक्टर कर्मचारियों की छंटनी कर रहा है।

दूरसंचार सेक्टर में एक साल की बेरोजगारी के आंकड़े

  • पि​छले एक साल में 75000 लोगों की नौकरियां छिनी।
  • वर्तमान में 2.25 लाख कर्मचारी कार्यरत।
  • नौकरी खोने वालों में करीब 25-30 फीसदी लोग टेलिकॉम प्रंबंधन से जुड़े थे।
  • टेलिकॉम सेक्टर का 50 फीसदी लोग मिडिल क्लास प्रबंधन से जुड़े हैं।
  • 35-40 फीसदी लोकल विक्रेताओं ने खोई नौकरियां।
  • 25-30 आॅपरेटर्स सेवा से बाहर।
  • इनमें से ज्यादातर लोगों को जबरदस्ती नौकरी छोड़ने के लिए बाध्य किया गया है।

ज्यादातर स्थायी तथा अनुबंध के तहत कर्मचारी ही कार्यरत हैं, बाकी कर्मचारियों की छंटनी की जा रही है। अब केवल 75 फीसदी कर्मचारी ही इस सेक्टर में रह गए है। बाकी अन्य कर्मचारी दूरसंचार उद्योग से बाहर होने की कगार पर हैं। ईएमए पार्टनर रामचंद्रन का कहना है कि “एक साल पहले टेलिकॉम सेक्टर में करीब तीन लाख कर्मचारी थे, जिनमें से पिछले 12 महीनों में 25 फीसदी कर्मचारी निकाले जा चुके हैं।”

इनमें से ज्यादातर कर्मचारियों को नौकरी छोड़ने के लिए बाध्य किया गया है। कुछ मामलों में इन कर्मचारियों को 3-6 महीने का समय दिया गया है। इसके बाद इन्हें नोटिस देकर बाहर कर दिया जाएगा। रामंचद्रन के मुताबिक टेलिकॉम विक्रेता कंपनियोें से जुड़े 35-40% कर्मचारी अपनी नौकरी खो चुके हैं। जब कि 25-30 फीसदी आॅपरेटर हैं जिन्हें अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है।

दूरसंचार सेक्टर में अब केवल 2.25 लाख कर्मचारी बचे हुए हैं, बावजूद इसके इन कर्मचारियों पर अभी भी गाज गिरने की संभावना है। क्योंकि टेलिकॉम आॅपरेटर्स के विलय पर इन कर्मचारियों की छंटनी तय है। टेलिकॉम सेक्टर के विशेषज्ञों जिनमें सीनियर तथा मिडिल कर्मचारी हैं, इन्हें अन्य उद्योगों में शामिल होने में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ेगा। क्योंकि इनके लिए अन्य उद्योगों में जगहें कम होगी।

एबीसी कंसल्टेंट्स के कार्यकारी निदेशक विवेक मेहता के अनुसार, “दूरसंचार क्षेत्र में लगभग 50 फीसदी मिडिल क्लास के कर्मचारी प्रबंधन से जुड़े हैं, इनमें से करीब 25-30% कर्मचारियों की छंटनी की जा चुकी है। इसका मतलब है कि टेलिकॉम प्रबंधन से जुड़े करीब 20,000 मिडिल क्लास कर्मचारी बेरोजगार हो चुके हैं।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनॉमी के मुताबिक, जनवरी-अप्रैल 2017 में 1.5 मिलियन लोग अपनी नौकरियों से हाथ धो चुके हैं।
एबीसी कंसल्टेंट्स मेहता का कहना है कि कई टेलिकॉम कंपनियों के मर्जर के बाद कर्मचारियों की छंटनी होनी तय है। ऐसे में एक बार फिर से दूर संचार सेक्टर से करीब 15 फीसदी कर्मचारियों के कम होने की उम्मीद है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -