Fri. Jun 14th, 2024
    चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता

    चीन ने मंगलवार को जी-7 के नेताओं के हांगकांग की स्वायत्तता के समर्थन में संयुक्त बयान पर कड़ी असंतुष्टि जाहिर की है। साथ ही महीनो से शहर में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के बाद शान्ति का आग्रह किया था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि “हम कड़ी असंतुष्टि जाहिर करते हैं और हांगकांग के मामले पर जी- 7 के नेताओं के बयान का विरोध किया है।”

    उन्होंने कहा कि “हमने निरंतर जोर देकर कहा है कि हांगकांग का मामला पूरी तरह चीन का आंतरिक मामला है और इसमें किसी भी विदेशी सरकार, संघठन और व्यक्ति का दखल देने का आधिकार नहीं है।” सोमवार को मुलाकात के दौरान जी-7 के नेताओं ने हांगकांग की स्वायत्तता का समर्थन किया था।

    उन्होंने कहा कि “ब्रिटेन और चीन के बीच साल 1984 में समझौते के तहत होना चाहिए और अर्धस्वायत्त संस्था में शान्ति की मांग की थी।” चीन ने विदेशी मुल्को की दखलंदाज़ी की आलोचना की थी और कहा कि जी 7 इसमें दखलंदाज़ी कर रहा है और नापाक मंसूबो को पाल रहा है।

    हांगकांग में बीते 12 हफ्तों से सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी है जिनकी शुरुआत बीजिंग समर्थक हांगकांग की सरकार ने प्रत्यर्पण बिल को पारित करने के बाद हुई थी। इसके तहत संदिग्ध अपराधियों को सुनवाई के लिए चीन भेजा जायेगा। निरंतर प्रदर्शन के बाद सरकार ने विधेयक को निलंबित कर दिया था लेकिन प्रदर्शन अभी भी जारी है।

    मंगलवार की शुरुआत में हांगकांग के कार्यकारी सचिव कैर्री लाम ने कहा था कि सरकार विरोधी प्रदर्शन गंभीर हो गए हैं लेकिन सरकार को विश्वास है कि हम संकट को खुद संभाल सकते हैं। प्रदर्शनकारियों के साथ संघर्ष में पुलिस ने पानी और आंसू गैस के गोले दागे थे। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर ईंट और पेट्रोल बम फेंके थे।”

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *