Thu. Jun 20th, 2024
    जयपुर गोपालपुरा

    जयपुर के गोपालपुरा से गुर्जर की थड़ी की ओर जाने वाली मुख्य रोड़ पर सरकार के आदेश पर भारी तोड़ फोड़ की गयी। इस दौरान करीबन 125 दुकानों को पहले दिन तोड़ दिया गया। एक अधिकारी के मुतबिक इस रोड़ पर सभी दुकानदारों ने अवैध जमीन पर रोड़ ओर घर बनाये हुए हैं।

    सरकार ने इस साल जयपुर शहर की पहली 12 लेन रोड़ बनाने की घोषणा की थी। इसके लिए शहर की मुख्य रोड़ गोपालपुरा बाई पास को चुना गया था। एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने इस रोड़ को करीबन 9 किमी तक चौड़ा करने को कहा था।

    इस योजना को जयपुर विकास प्रशासन ने अंजाम दिया है। जेडीए के एक अधिकारी ने बताया कि इस रोड़ पर लोगों ने अवैध कब्ज़ा करते हुए दुकानें ओर घर बनाये हुए हैं। इसको लेकर सरकार ने कई बार नोटिस जारी किये थे लेकिन कोई असर नहीं हुआ। अब हाई कोर्ट के आदेश पर जेडीए ने अतिक्रमण हटाने के लिए भरी तोड़ फोड़ कर डाली।

    दुकाने तोड़े जाने से सभी दुकानदार ओर निवासी शोक मना रहे हैं। कई लोगों को रोड़ पर रोते हुए ओर शिकायत करते हुए देखा गया था। लोगों का कहना था कि सरकार ने उनकी रोजी-रोटी उनसे छीन ली है।

    एक दुकानदार कमल शर्मा ने बताया, ‘यहाँ बहुत सारी दुकानें करीबन 25 सालों से बनी हैं। हर दुकान से करीबन 3-4 परिवारों को रोजगार मिल रहा था। सरकार के इस कदम से हज़ारों घरों के रोजगार छीन गए हैं। एक ओर सरकार रोजगार देने की बात करती है, वहीँ दूसरी ओर लोगों के रोजगार छीन रही है।’

    दरअसल आज से त्योहारों का सीजन भी शुरू हो रहा है। पहले नवरात्री, फिर दशहरा और दिवाली मनाये जाएंगे। ऐसे में हज़ारों लोगों की कमाई की सरकार ने कमर तोड़ दी है। लोगों में भारी आक्रोश की भावना है। लोगों का मानना है कि सरकार को इससे अगले चुनावों में असर देखने को मिलेगा।

    इसपर हालाँकि सरकारी अधिकारीयों का कहना है कि लोगों को यहाँ से हटने का उचित समय दिया गया था। सरकार ने पहले भी अतिक्रमण के मामले में नोटिस जारी किये थे लेकिन लोगों पर कोई असर नहीं पड़ा। कल भी दुकाने तोड़ने से पहले लोगों को सामान हटाने के लिए समय दिया गया था।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।