Tue. May 28th, 2024
    तिब्बती धर्मगुरू

    तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने गुरूवार को कहा कि तिब्बत, चीन से स्वतंत्रता नहीं बल्कि अधिक विकास मांगते है। इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित एक संवाद सत्र को संबोधित करते हुए दलाई लामा ने कहा कि हम चीन से स्वतंत्रता की मांग नहीं कर रहे है।

    हम चीन के साथ रहना चाहते है। लेकिन हम चीन से अधिक विकास चाहते हैं। तिब्बत के सर्वोच्च धर्मगुरू दलाई लामा ने कहा कि तिब्बत की एक अलग संस्कृति और अलग लिपी है। चीनी लोगों को अपने देश से प्यार है और हम अपने देश से प्यार करते है।

    दलाई लामा ने आगे कहा कि चीन को तिब्बती संस्कृति और विरासत का अवश्य सम्मान करना चाहिए। इसके अलावा कहा कि तिब्ब्त से कई प्रमुख नदियां जैसे यांग्त्ज़े से सिंधु नदी बहती है।

    सांस्कृतिक देश है भारत

    तिब्बती पठार की देखभाल केवल तिब्बत के लिए ही नहीं बल्कि अरबों लोगों के लिए ही जरूरी है। इसके साथ ही दलाई लामा ने भारत की धार्मिक सहिष्णुता की भावनाओं की सराहना भी की। चीनी लोगों की तुलना में भारतीय लोगों के आलस्य का औसत जयादा है।

    दलाई लामा ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि भारतीय लोग आलसी है लेकिन यह जलवायु के कारण हो सकता है। भारत की तारीफ करते हुए इसे स्थिर देश की संज्ञा दी और कहा कि यह विश्व स्तर पर एक भूमिका निभा सकता है।

    भारत के विभिन्न परम्पराओं के लोग एक साथ रहते है जो कि भारत की विरासत व संस्कृति को दिखाता है। गौरतलब है कि चीन व तिब्बत के बीच काफी घनिष्ठ संबंध रहे है। लेकिन कई बार इनके बीच में संघर्ष की स्थिति भी बनी है।