Fri. May 24th, 2024
    भारत चीन पाकिस्तान ड्रोन हमला

    चीन ने गुरूवार को भारत पर आरोप लगाते हुए दावा किया है कि चीनी क्षेत्र में भारतीय ड्रोन ने हमले की कोशिश की है जो बाद में दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी सिन्हुआ ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि चीन के पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सदस्यों ने एक अज्ञात स्थान से ड्रोन को प्राप्त किया है।

    चीन ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत की ये चाल चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लंघन करती है। भारतीय ड्रोन मिलने पर चीन ने अंसतोष जताते हुए विरोध किया। साथ ही भारत को चेतावनी दी गई कि चीन अपने क्षेत्र की सुरक्षा के लिए हरसंभव कदम उठा सकता है।

    वहीं भारत के रक्षा मंत्रालय ने चीन के हमला करने वाले दावों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। भारतीय रक्षा मंत्रालय ने कहा कि तकनीकी मानदंड के कारण मानव रहित हवाई वाहन (यूएवी) जमीन नियंत्रण से संपर्क खो गया और सिक्किम क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार कर गया था।

    हालांकि ये पहली बार नहीं है जब पड़ोसी देशों ने भारत पर ड्रोन हमले जैसे आरोप लगाए है। इससे पहले भी पड़ोसी देशों ने भारत पर ऐसा ही दावा किया था लेकिन वो सब बिल्कुल झूठा निकला। इसके कुछ उदाहरण निम्न है –

    30 अक्टूबर, 2017: इस दिन पाकिस्तानी सेना ने भारत पर ड्रोन के माध्यम से जासूसी किए जाने का आरोप लगाया था। साथ ही पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास रक्षचिरी सेक्टर में एक भारतीय ड्रोन को मारने का दावा भी किया था।

    पाकिस्तान के सैन्य प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्विटर पर कहा था कि सेना ने ड्रोन के मलबे को भी इकट्ठा किया है।

    19 नवंबर, 2016: इस दिन भी पाकिस्तानी सेना ने भारत पर आरोप लगाते हुए दावा किया था कि भारतीय ड्रोन ने हमारी सीमा में घुसपैठ की कोशिश की थी। जिसके बाद उसे गोली मार दी गई।

    सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट जनरल असीम सलीम बाजवा ने ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी थी और कहा था कि पाकिस्तानी सैनिकों ने इसका मलबा एकत्रित किया है।

    15 जुलाई, 2015: इस दिन पाकिस्तान ने भारतीय ड्रोन के ऊपर एलओसी के निकट हवाई फोटोग्राफी करने का झूठा आरोप लगाया था। साथ ही इसे मारने का दावा भी ठोका था।

    पाक ने यह भी कहा था कि इससे पाकिस्तान के क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन हुआ है। हालांकि, भारत ने इस दावे को खारिज कर दिया था।

    इस तरह के कई मामलों में पाकिस्तान ने भारत पर ड्रोन के जरिए जासूसी करने का आरोप लगाया था। अब चीन भी पाकिस्तान के जैसे ही भारत पर आरोप लगा रहा है।