Thu. Feb 9th, 2023
    केपी ओली

    नेपाल के नए प्रधानमंत्री केपी ओली ने कहा है कि वो चीन के साथ संबंधों को अधिक मजबूत करके भारत के साथ समझौते से अधिक फायदा लेंगे। ओली ने कहा कि वह “समय के अनुसार” भारत के साथ संबंधों को “अपडेट” करना चाहता है।

    भारत-नेपाल संबंधों के सभी विशेष प्रावधानों की समीक्षा की भी जरूरत केपी ओली ने जताई जिसमें भारतीय सेना में नेपाली जवानों के सेवा देने की काफी पहले से चली आ रही परंपरा भी शामिल है।

    हांगकांग के दक्षिण चीन मॉर्निंग पोस्ट को दिए एक इंटरव्यू में केपी ओली ने कहा कि हमारे पास भारत के साथ खुली सीमा एक मजबूत संपर्क में है। हम आगे भी कनेक्टिविटी बढ़ाएंगे लेकिन हम यह नहीं भूल सकते कि हमारे पास दो पड़ोसी और है। हम केवल एक देश पर निर्भर नहीं रहना चाहते है।

    नेपाल के नए पीएम ने कहा कि वो चीन के साथ संबंधों को अधिक गहरा करना चाहता है जिससे भारत के साथ समझौतो से अधिक फायदा कमाया जा सके। केपी ओली को चीन समर्थक माना जाता है। इससे पूर्व जब वे नेपाल के प्रधानमंत्री थे उस समय ओली का झुकाव भारत की अपेक्षा चीन के प्रति ज्यादा था। मधेशी आंदोलन की वजह से भारत व नेपाल के बीच में दूरियां भी हो गई थी जिस पर नेपाल ने चीन के साथ दोस्ती मजबूत की।

    एक बार फिर से केपी ओली चीन के साथ रिश्तों को बढ़ाना चाहता है। भारत के साथ संबंधों पर केपी ओली ने कहा कि भारत व नेपाल के बीच हमेशा से उत्कृष्ट संबंध रहे है।

    भारत में कुछ ऐसे तत्व थे जिनसे हमारे बीच में गलतफहमी पैदा हुई। लेकिन भारतीय नेताओं ने हमें आश्वस्त किया है कि अब वो भविष्य में हस्तक्षेप नहीं करके एक-दूसरे की संप्रभुता का सम्मान करेंगे।

    दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में ओली के पदभार ग्रहण करने से पहले भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने नेपाल का दौरा किया था और ओली व अन्य वामपंथी नेताओं से मुलाकात की। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी केपी ओली से बात की थी।

    सम्बंधित: भारत चीन सम्बन्ध

    भारतीय सेना में नेपाली सेवा ने बारे मे ओली ने कहा कि यदि आवश्यक हो तो आंतरिक रूप से व पारस्परिक रूप से चर्चा की जा सकती है। नेपाल एक नई यात्रा शुरू कर रहा है इसलिए हमें पुराने की जगह पर आधुनिक युग के अनुसार सुधार करना होगा।