Tue. Jun 18th, 2024
    अमेरिका चीन राष्ट्रपति

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प एशियाई दौरे के दौरान चीन यात्रा पर गए। यहां पर ट्रम्प ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ कई मुद्दो को लेकर मुलाकात की। ट्रम्प का प्रमुख मुद्दा उत्तर कोरिया पर दबाव बनाने को लेकर चीन का समर्थन पाना है। वहीं चीन व अमेरिका के बीच में व्यापार को लेकर भी बातचीत हुई।

    ट्रम्प के दौरे के दौरान सबसे प्रमुख देश चीन ही है। ट्रम्प के चीन पहुंचने पर उनका भव्य स्वागत किया गया। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और फर्स्ट लेडी पेंग लीयुआन, ट्रम्प व उनकी पत्मी मेलानिया को फॉरबिडन सिटी की यात्रा पर लेकर गए।

    जहां पर दोनों नेताओं के बीच में शानदार संबंधों को देखा गया। इस दौरान एक वीडियो में ट्रम्प की पोती कविता को पढ़ते हुए चीन में गाती है जिसे चीन को लोगों ने काफी पसंद किया।

    इस दौरान अमेरिका व चीन के बीच में 250 अरब डॉलर से अधिक का व्यापार व निवेश किए जाने पर समझौता हुआ। व्यापार मुद्दा ट्रम्प का प्रमुख है जिसे चीन अच्छी तरह से जानता है। चीन भी अमेरिकी श्रमिकों का हित बेहतर तरीके से समझते है। अगर देखा जाए तो ट्रम्प के चीन आने के बाद चीन भी अमेरिका से अधिक उत्पादों, प्रौद्योगिकी और सेवाओं की खरीद के लिए उत्सुक नजर आ रहा है।

    चीन व अमेरिका का व्यापारिक रिश्ता हुआ मजबूत

    दोनों देशों में द्विपक्षीय व्यापार व आर्थिक समझौता होने पर पता चलता है कि इससे चीन व अमेरिका एक नए युग में प्रवेश करेंगे। ट्रम्प की चीन यात्रा के दौरान जो व्यापारिक डील हुई है उससे चीन व अमेरिका के बीच भविष्य में संबंध व व्यापार मजबूत हो सकता है।

    ट्रम्प व शी जिनपिंग की मुलाकात के बाद चीनी विदेश मंत्री झेंग ज़ियुआंग ने कहा कि चीन बैंकिंग, सिक्योरिटीज, फंड और बीमा उद्योग सहित वित्त की सीमा को बढ़ाएगा। साथ ही कारों पर टैरिफ को कम करेगा।

    दोनों देशों के बीच हुए व्यापारिक समझौते को आर्थिक सहयोग को बढ़ावा देने वाला माना जा रहा है। इसके अलावा चीन व अमेरिका ने अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी चर्चा की। दोनों देश मिलकर अफगानिस्तान और इराक के स्थिरता और विकास को बढ़ावा देंगे।

    अगर ट्रम्प की हालिया चीन यात्रा से पहले की बात की जाए तो चीन व अमेरिका के बीच में व्यापार को लेकर असंतोष बढ़ा हुआ था। अमेरिका ने चीन पर आरोप लगाया था कि उसकी वजह से अमेरिका को भारी मात्रा में आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है।

    लेकिन दोनों देशों के प्रमुखों के बीच हुई व्यापारिक डील के बाद संबंध सुधरे हुए नजर आ रहे है। सी 9 9 की तरह चीन द्वारा उत्पादित एयरप्लेन भविष्य में यूएस मार्केट में प्रवेश कर सकते है। ट्रम्प की यात्रा चीन और अमेरिका के बीच निवेश संबंधों को भी मजबूत करेगी।

    चीन व अमेरिका ने सैन्य संबंधों, साइबर सुरक्षा, आतंकवाद और वैश्विक संपदा सहयोग पर सौदे किए है। व्यापार के अलावा भी अन्य मुद्दों को लेकर दोनों देशों ने सहमति प्रकट की है।

    चीन व अमेरिका एक-दूसरे को प्रतियोगी मानते है। ट्रम्प सिर्फ अमेरिका को महान बनाने की कोशिशों में लगे हुए है। ऐसे में चीन यात्रा के बाद उम्मीद की जा रही है कि वे तर्कसंगत और व्यावहारिक तरीका अपनाएंगे।