Thu. Feb 9th, 2023

    देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस आज अपना 133 वां स्थापना दिवस बना रही है। इतने लंबे सफर में इस पार्टी ने कई उतार चढ़ाव देखे है। आधुनिक भारत के बनने और सवरने में इस पार्टी का प्रमुखता से हाथ रहा है।

    आज का दिन कांग्रेस पार्टी के लिए अहम दिन है यहीं कारण है कि आज के दिन को ख़ास बनाने के लिए पार्टी ने राष्ट्रीय स्तर पर कई कार्यक्रमों का आयोजन किया है।

    इस मौके पर गुलाम नबी आजाद ने ट्वीट करते हुए कहा है कि “हम कांग्रेस के सफर को सेलिब्रेट करते हुए अपने तमाम लोगों को याद करते है जिन्होंने देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया। आज देश के अंदर कुछ ऐसी ताकते उभर आयी है जो संविधान को बदलने का सपना देख रही है। हमें इन लोगों से सावधान रहना होगा।”

    आज सुबह राहुल गाँधी ने कांग्रेस के स्थापना दिवस पर पार्टी के मुख्यालय में झंडारोहण किया। राहुल ने भी बीजेपी को निशाना बनाते हुए कहा कि “देश के कुछ लोग संविधान को बदलना चाहते है लेकिन हम उन्हें ऐसा नहीं करने देंगे।”

    ब्रिटिश राज में बनी थी पार्टी

    आधुनिक भारत का खाका तैयार करने वाली कांग्रेस पार्टी की स्थापना 1885 में ब्रिटिश काल में हुई थी। पार्टी के संस्थापन में ए ओ ह्यूम, दादा भाई नौरोजी और दिनशा वाचा का प्रमुख योगदान रहा है।

    1885 में कांग्रेस अपने स्थापना दिवस के मोके पर
    1885 में कांग्रेस अपने स्थापना दिवस के मोके पर

    आजादी के बाद से ही इस पार्टी ने देश की सत्ता पर राज किया है। केंद्र में कांग्रेस की सरकार सबसे लंबे समय तक रही है। देश में कभी 415 लोकसभा सीटें जीतने वाली यह पार्टी आज महज 44 लोकसभा सीटों पर सिमट कर रह गयी है।

    पार्टी ने दिए है देश को 7 ताकतवर पीएम

    कांग्रेस पार्टी भले तमाम विवादों से भरी पार्टी है लेकिन इस बात में कोई दो राय नहीं है कि देश को कई ताकतवर पीएम इसी पार्टी ने दिए है। पार्टी ने देश को जवाहरलाल नेहरू, गुलजारीलाल नंदा, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गाँधी, राजीव गाँधी, नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह के रूप में प्रधानमंत्री दिया है। हालंकि इनमे से कई प्रधानमंत्री ऐसे भी है जो विवादों में घिरे रहें हैं या जिन पर गंभीर आरोप हैं।