Fri. Jul 19th, 2024
    पत्थरबाज कश्मीर

    भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के दौरान दिए भाषण में कहा था कि कश्मीर की समस्या का हल गोली या गाली से नहीं बल्कि लोगों को गले लगाने से होगा। इस कड़ी में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के नेतृत्व में एक टीम ने कश्मीर का दौरा किया और वहां के राज्यपाल से मुलाक़ात की। इसके बाद अब भाजपा के नेता एमजे खान के नेतृत्व में एक आयोग ने कश्मीर जाने का फैसला किया है। इस आयोग का मक़सद कश्मीर जाकर वहां के लोगों से मिलना, उनकी समस्या को समझना और फिर उस समस्या को सुलझाना है।

    जाहिर है कश्मीर की समस्या देश के लिए एक बड़ा विषय बन गया है। इस दौर में बहुत से आयोगों का गठन हो चुका है, बहुत से लोगों ने कश्मीर का दौरा किया है एवं बहुत हिंसा हो चुकी है। 15 अगस्त को जब नरेंद्र मोदी ने लाल किले से कश्मीर समस्या का जिक्र किया, तो लोगों में एक नयी उम्मीद जगी। नरेंद्र मोदी ने कहा था कि इस समस्या को सुलझाने के लिए हिंसा नहीं बल्कि प्यार की जरूरत है। इसके चलते अब एमजे खान, शहीद सिद्दीकी और दो अन्य सदस्य कश्मीर के लिए रवाना हो चुके हैं। यह मंडल कश्मीर में जाकर वहां की जनता, राजनितिक पार्टियां और मदरसों का दौरा करेगा।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।