Mon. May 20th, 2024
    एमर्सन मननगागवा ज़िम्बाब्वे

    एमर्सन मननगागवा जिम्बाब्वे के अगले राष्ट्रपति के पद के लिए आज शपथ ले सकते हैं। रॉबर्ट मुगाबे के राष्ट्रपति पद से इस्तीफा दिए जाने के बाद अब एमर्सन को जिम्बाब्वे का अगला राष्ट्रपति बनाया गया है।

    एमर्सन ज़िम्बाब्वे के 1980 में स्वतंत्र होने के बाद से ही सरकार के अहम् सदस्य रहे हैं। उन्हें अपने देश में एक क्रूर और कठोर नेता के रूप में जाना जाता है। एमर्सन ने सालों से मुगाबे के अंगरक्षक और विश्वसनीय साथी के रूप में काम किया है।

    एमर्सन को साल 2014 में ज़िम्बाब्वे का उप-राष्ट्रपति बनाया गया था। उस समय एमर्सन ज़िम्बाब्वे में काफी लोकप्रिय थे। वे इतने लोकप्रिय थे कि उनके समर्थक उन्हें ‘मगरमच्छ’ के नाम से जानने लगे थे।

    एमर्सन की जिंदगी और ज़िम्बाब्वे की राजनैतिक दुनिया में भूचाल तब आया जब 6 नवंम्बर 2017 को मुकाबे ने उन्हें पार्टी से बाहर निकाल दिया था। इसके पीछे कारण यह बताया जा रहा था कि 93 वर्षीय मुकाबे अपने बाद अपनी पत्नी को देश की कमान सौंपना चाहते थे।

    यह भी पढ़ें : ज़िम्बाब्वेः राजनीतिक संकट या सेना का तख्तापलट? पूरी जानकारी

    एमर्सन बर्खास्त होने के बाद गिरफ्तार होने के डर से देश छोड़कर चले गए थे। देश छोड़ने के बाद उन्होंने एक बयान दिया था, जिसमे उन्होंने कहा, ‘हमें अपने मतभेदों को भुलकर एक नया और समृद्ध ज़िम्बाब्वे बनाना चाहिए। एक ऐसा देश जो विभिन्न विचारधारों को सहन कर सके, एक देश जो सब पक्षों का समर्थन करे, एक ऐसा देश जो अपने आपको पुरे विश्व से सिर्फ इस कारण से अलग ना करे कि पार्टी का एक ज़िद्दी नेता अपनी मृत्यु तक देश की कमान संभालना चाहता है।’

    इस बयान के जरिये एमर्सन ने अपने लम्बे समय से रहे दोस्त और देश के राष्ट्रपति रोबर मुकाबे पर जमकर प्रहार किया। उनके इस बयान के बाद ज़िम्बाब्वे की सेना ने रोबर्ट मुकाबे को गिरफ्त में ले लिया था और एमर्सन को पार्टी का नया मुखिया बना दिया था।

    एमर्सन को मुखिया बनाये जाने के बाद भी मुकाबे ने राष्ट्रपति पद छोड़ने से इंकार कर दिया था। इसके तत्पश्चात हजारों की संख्या में एमर्सन के समर्थकों ने राजधानी हरारे में मुकाबे के इस फैसले का विरोध किया और उन्हें पद छोड़ने को मजबुर कर दिया।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।