Sat. Oct 1st, 2022
    मनीष सिसोदिया

    मनीष सिसोदिया ने आज संवाददाताओं से हुई बातचीत में कहा कि ‘लाभ का पद’ मामले में अयोग्य घोषित किये गए आप के 20 विधायकों ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से मिलने का समय माँगा है ताकि वो इस मामले में अपना पक्ष राष्ट्रपति के समक्ष प्रस्तुत कर सकें। उन्होंने कहा कि उनके विधायकों को अपना पक्ष रखने का मौका ही नही दिया गया था। उनके अनुसार यदि उनको अपनी बात कहने का अवसर दिया जाता तो वह यह साबित कर देते कि वो लोग ‘लाभ का पद’ मामले में लिप्त नही थे। सिसोदिया ने कहा कि यह पूर्णतः अवैध और असंवैधानिक है।आज मुख्यमंत्री आवास पर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के साथ हुई 20 विधायकों की एक बैठक में राष्ट्रपति से मिलने का यह निर्णय लिया गया। 

    उन्होंने यह भी कहा कि राष्ट्रपति से मिलकर उनके विधायक स्पष्ट करना चाहते हैं कि यह एक पक्षपाती निर्णय है और प्राकृतिक न्याय के खिलाफ है और वो लोग पूरी तरह इसका विरोध करते हैं। आपको बता दें कि कल चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति से यह निवेदन करते हुए कहा था कि वह आप के उन 20 विधायकों को अयोग्य घोषित कर दें जो लाभ का पद धारण करने के दोषी पाए गए थे। राष्ट्रपति को दी गयी याचिका में चुनाव आयोग ने यह स्पष्ट किया था कि ने 13 मार्च 2015, और 8 सितंबर, 2016 के बीच ये विधायक संसदीय सचिव के पद पर काबिज़ हो गए थे जिसके बाद से ये लाभ के पद मामले के तहत दोषी पाए गए हैं।

    हालांकि इसका दिल्ली में आम आदमी पार्टी पर खतरा नहीं है क्योंकि 70 सदस्यीय विधानसभा में से 66 विधायक आप के ही हैं लेकिन कांग्रेस और भाजपा ने नैतिकता के आधार पर केजरीवाल से इस्तीफे की मांग की है।

    सिसोदिया ने कहा के आम आदमी पार्टी इस मुद्दे पर न्यायालय जाएगी और यदि उन्हें वहां भी न्याय नही मिला तो वह पीपुल्स कोर्ट में जाएगी जो उच्च न्यायालय माना जाता है। उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह चुनाव चाहते हैं ताकि आप द्वारा शुरू की गयी सारी योजनायें धराशायी हो जाएँ। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि बीजेपी बहुत समय से प्रयास कर रही है लेकिन उनका कोई भी प्रयास सफल नही हो पा रहा है। उनका कहना है कि बीजेपी को तीन साल में आप द्वारा हासिल की सफलता से परेशानी हो रही है। 

    उनके अनुसार आप की कई परियोजनाएं पटरी पर आने को तैयार हैं। नए मोहल्ला क्लिनिक आ रहे हैं, सीसीटीवी परियोजना अंतिम चरण में है। सरकार अब चौथे गियर में है और भाजपा हमें इन परियोजनाओं पर काम करने से रोकने की कोशिश कर रही है। 

    रोहतास नगर से आम आदमी पार्टी की विधायक सरिता सिंह ने भी मनीष सिसोदिया का समर्थन करते हुए कहा की आप के किसी भी सचिव ने किसी भी प्रकार का आर्थिक लाभ नही प्राप्त किया है। इसके विपरीत सचिवों को अपनी जेब से खर्चा करना पड़ा है। 

    इसके अलावा चांदनी चौक से आप की विधायक अलका लाम्बा ने कहा कि 20 आप विधायकों ने व्यक्तिगत स्तर पर राष्ट्रपति के साथ नियुक्ति मांगी है और सभी 20 विधायकों के लिए एक याचिका भी तैयार की जा रही है।