Sat. Nov 26th, 2022
    अमेरिकी कांग्रेस आर्थिक सहायता

    अफगानिस्तान में बढ़ती आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए अमेरिकी कांग्रेस ने पाकिस्तान के लिए 700 मिलियन डॉलर की सहायता राशि देने की मंजूरी दी है। अफगानिस्तान में अमेरिका की तरफ से आतंकवाद को खत्म करने के लिए सैन्य अभियान चलाया जा रहा है।

    इन अभियानों का समर्थन करने के लिए गठबंधन सहायता कोष में 700 मिलियन डॉलर अधिकृत किए गए है। अमेरिका की तरफ से ये राशि पाकिस्तान को दो किस्तों में दी जाएगी। पहले तो पाक को 350 मिलियन डॉलर की सहायता दी जाएगी।

    फिर देखा जाएगा कि पाकिस्तान आतंकवाद के खात्मे के लिए अमेरिकी सैन्य अभियान की कितनी मदद कर रहा है। बाद में बची हुई राशि 350 मिलियन डॉलर को प्रमाणित होने के बाद ही जारी किया जाएगा।

    आसानी से नहीं मिलेगी पाक को सहायता

    लेकिन अमेरिका ये राशि पाकिस्तान को इतनी आसानी से नहीं देगा। अमेरिका पहले ये तय करेगा कि पाकिस्तान ने हक्कानी नेटवर्क के खिलाफ स्पष्ट कदम उठाए है या नहीं।

    एनडीएए ने अमेरिकी रक्षा विभाग से अनुरोध किया है कि पाकिस्तान को प्रदान की जाने वाली सहायता पर पूरा ध्यान दिया जाए। साथ ही आशंका जताई गई कि पाक की तरफ से आतंकवादी समूहों का समर्थन करके इसका दुरूपयोग भी किया जा सकता है।

    इसके अलावा अमेरिकी कांग्रेस ने पाकिस्तान में विभिन्न राजनीतिक या धार्मिक समूहों के कथित उत्पीड़न के बारे में चिंता जाहिर की है। इससे पहले सितंबर में अमेरिका ने पाक को 255 मिलियन डॉलर की सैन्य सहायता प्रदान की थी।

    इस दौरान अमेरिका ने पाक को शर्त जारी करते हुए कहा था कि इस राशि का उपयोग उसे अफगानिस्तान के सीमावर्ती हमलों को रोकने व आतंकवादी समूहों के खात्मे के खिलाफ करना होगा।

    ओबामा प्रशासन ने भी पाक को आतंकवाद के खात्मे के लिए सैन्य सहायता दी थी। अमेरिका का कहना है कि वह चाहता है कि आतंकवाद पूरी दुनिया से खत्म हो जाए। इसके लिए ही वह पाक को आर्थिक रूप से मदद करते है।